India-China Border Dispute: विदेश मंत्री ने कहा- अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे भारत-चीन, बैठकर निकालना होगा रास्ता

  • India-China Border Dispute के बीच विदेश मंत्री S Jaishankar का बयान
  • विश्व आर्थिक मंच के ऑनलाइन सम्मेलन को विदेश मंत्री ने किया संबोधित
  • बोले- बैठकर बातचीत के जरिए निकालना होगा हल

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में चल रहे सीमा विवाद (India China Border Dispute) को लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर ( S Jaishankar ) का बयान सामने आया है। गुरुवार को विश्व आर्थिक मंच के ऑनलाइन सम्मेलन को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री ने कहा है कि भारत और चीन दोनों ही अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे हैं।

उन्होंने ये भी कहा कि भारत और चीन अपनी वृद्धि के साथ-साथ किस तरह आपसी तालमेल बैठाते हैं ये एक बड़ा मुद्दा है। इसका एक हिस्सा सीमा विवाद भी है। दरअसल चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद को लेकर साढ़े चार महीने से चल रही बातचीत के बीच विदेश मंत्री का ये बयान काफी अहम है।

दिल्ली में तेज रफ्तार बस का कहर, बच्चे और महिला समेत सात लोगों को कुचला, तीन की मौके पर मौत

रूस की राजधानी मास्को में हुई एससीओ की बैठक और 10 सितंबर को चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ बातचीत के बाद चीन से चल रहे सीमा विवाद पर साढ़े चार महीने बाद विदेश मंत्री की पहली टिप्पणी सामने आई है।

जब विदेशमंत्री एस जयशंकर से पूछा गया कि एशिया के दो बड़े देशों के बीच रिश्ते किस तरह आगे बढ़ेंगे तो उन्होंने जवाब दिया कि भारत और चीन के लिए यह जरूरी है कि वे एक - दूसरे के विकास को समायोजित करने की जरूरत को समझें।

विदेश मंत्री ने कहा भारत और चीन हर तरह से अभूतपूर्व स्थिति से गुजर रहे हैं। लेकिन इसे व्यापक तौर पर देखा जाए तो ये एक बड़े घटनाक्रम का सिर्फ एक पहलू है। दोनों देशों को बैठकर बातचीत के जरिए ही हल निकालना होगा। तभी इस स्थिति से उबर पाएंगे।

उन्होंने कहा कि भारत और चीन दोनों देशों की कूटनीति के लिए बड़ी चुनौती है, कि वे कैसे एक दूसरे की वृद्धि को समायोजित करते हैं।

कोर कमांडर लेवल की बातचीत
आपको बता दें कि 21 सितंबर को दोनों देशों के बीच कोर कमांडर स्तर की अहम वार्ता हुई थी। इस वार्ता के बाद दोनों ओर से कुछ फैसलों को लेकर घोषणाएं की गईं।

आईपीएल 2020 में हो रहे मुकाबलों से काफी खुश हैं बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली, जानें क्या आगे के लिए क्या बोले दादा

इन घोषणाओं में सीमा पर ज्यादा सैनिकों को भेजना बंद करने जैसी बातें प्रमुख रूप से शामिल थीं। इसके साथ ही ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचने की बात थी, जिससे मामला और जटिल हो सकता हो।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned