सावधान! कोविड पॉजिटिव मरीजों में बढ़े TB के मामले, सरकार ने जारी की एडवाइजरी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के लिए टीबी की जांच और सभी डायग्नोस्ड किए गए टीबी मरीजों के लिए कोविड जांच की सिफारिश को फिर से दोहराया है। साथ ही कोविड-19 से संक्रमित मरीजों में टीबी के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक एडवायजरी जारी की है।

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही है, लेकिन दूसरी तरफ कोरोना पॉजिटिव मरीजों में अलग-अलग तरह की बीमारियां के लक्षण सामने आने के बाद चिंताएं भी बढ़ गई हैं। अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों में तपेदिक (टीबी) के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है। प्रतिदिन करीब दर्जनभर इसी तरह के मामले सामने आ रहे हैं, जिसको लेकर डॉक्टर भी चिंतित हैं। ऐसे में इसको लेकर सरकार ने एडवाइजरी जारी की है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को सभी कोविड -19 पॉजिटिव मरीजों के लिए टीबी की जांच और सभी डायग्नोस्ड किए गए टीबी मरीजों के लिए कोविड जांच की सिफारिश को फिर से दोहराया है। साथ ही सावधानी बरतने की सलाह दी है। इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 से संक्रमित मरीजों में टीबी के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक एडवायजरी जारी की है।

यह भी पढ़ें :- हाई ब्लड प्रेशर और मोटापा से पीड़ित गर्भवती को कोविड संक्रमण का ज्यादा खतरा, जानें कैसे करें बचाव

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आधिकारिक बयान के मुताबिक, 'यह स्पष्ट किया जाता है कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) द्वारा सभी कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के लिए टीबी की जांच और टीबी से ठीक हुए सभी रोगियों के लिए कोरोना जांच की सिफारिश की गई है। अगस्त 2020 की शुरुआत में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को बेहतर निगरानी और टीबी एवं कोविड-19 के मामले को खोजने के प्रयासों में तेजी लाने के लिए कहा गया है।'

इसके अलावा, स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में TB-COVID और TB-ILI/SARI की द्वि-दिशात्मक जांच (Bi-Directional Screening) की आवश्यकता को दोहराते हुए कई सलाह और मार्गदर्शन भी जारी किए गए हैं। कई राज्य और केंद्र शासित प्रदेश इसे लागू भी कर रहे हैं।

कोविड की वजह से बढ़े टीबी के मामले?

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अभी इस बात के पूरे प्रमाण सामने नहीं आए हैं कि कोविड की वजह से ही टीबी के मामलों मेें बढ़ोतरी हुई है। इन दोनों बीमारियों के संबंध में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि यह संक्रमाक रोग हैं, जो मुख्य रूप से फेफड़ों पर हमला करते हैं।

यह भी पढ़ें :- टीबी के मरीजों का कोविड वैक्सीनेशन जरूरी, कमजोर इम्युनटी की वजह से संक्रमित होने की ज्यादा संभावना

दोनों में ही खांसी, बुखार और सांस लेने में कठिनाई के समान लक्षण सामने आते हैं। हालांकि, टीबी के लक्षण दिखाई पड़ने में बहुत वक्त लगता है और इसकी शुरूआत भी बहुत धीमी होती है। टीबी एक ऐसा संक्रामक रोग है जो कमजोर शरीर को निशाना बनाता है। मंत्रालय ने कहा कि कोविड की वजह से कई बार पाबंदियां लगाई गई, जिसकी वजह से 2020 में टीबी के लिए केस नोटिफिकेशन में करीब 25 फीसदी की कमी आई थी।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned