कोरोना से निपटने को सरकार की नई प्लानिंग, सितंबर से रोजाना मिलेंगी 80 से 90 लाख वैक्सीन की डोज

देश की पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए लगभग कोरोना वैक्सीन की लगभग 188 करोड़ डोज की जरूरत होगी, इनमें से 98 फीसदी आबादी वयस्कों की है। फिलहाल इनमें से 38 करोड़ वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं।

नई दिल्ली। देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच केन्द्र सरकार ने इस वर्ष के आखिर तक सभी वयस्कों को कोरोना वैक्सीन देने का टारगेट तय किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अभी एक योजना पर कार्य किया जा रहा है। इस योजना के तहत रोजाना 80 से 90 लाख टीके लगाने जाने की प्लानिंग की जा रही है।

यह भी पढ़ें : IIT Madras ने विकसित किया AI बेस्ड गणितीय मॉडल, कैंसर कारक म्यूटेशन का लगाएगा पता

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अगले माह से देश में स्पूतनिक V तथा जॉयडस कैडिला की वैक्सीन भी बनना शुरू होने की संभावना है, इन दोनों के अलावा वर्तमान में उपलब्ध कोरोना वैक्सीन्स कोविशील्ड तथा कोवैक्सीन की क्वांटिटी भी बढ़ाने की योजना पर कार्य चल रहा है। यदि सभी कुछ सही रहा तो अगले महीने से रोजाना 80 से 90 लाख लोगों को वैक्सीन दी जा सकेगी।

यह भी पढ़ें : अपने प्रत्येक कर्मचारी को 1.20 लाख रुपए देगी Microsoft, फेसबुक और अमेजन भी कर चुके हैं ऐसा

वर्तमान में देश में हर महीने लगभग 12 करोड़ टीके बनाए जा रहे है। ये टीके कोविशील्ड तथा कोवैक्सीन है। इनके अलावा जॉयडस कैडिला शुरूआत में एक से दो करोड़ टीकों का निर्माण करेगी। स्पूतनिक V का भी हिमाचल प्रदेश में निर्माण होना शुरू हो गया है। हालांकि अभी रूस से भी स्पूतनिक वैक्सीन का आयात किया जा रहा है। मॉडर्ना और सिप्ला से भी सरकार की वैक्सीन के लिए बात चल रही है। इस तरह सरकार हर संभव प्रयास करके टीकों की आपूर्ति बढ़ाने पर काम कर रही है। मंत्रालय के अनुसार अगस्त से टीकों की बढ़ी हुई आपूर्ति नियमित रूप से होने लगेगी और सितंबर - अक्टूबर तक देश में रोजाना एक करोड़ तक वैक्सीन की डोज लोगों को दी जा सकेंगी।

उल्लेखनीय है कि देश की पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए लगभग कोरोना वैक्सीन की लगभग 188 करोड़ डोज की जरूरत होगी, इनमें से 98 फीसदी आबादी वयस्कों की है। फिलहाल इनमें से 38 करोड़ वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। यदि हर महीने 12 करोड़ डोज दी जाए तो अगले छह महीनों में केवल 72 करोड़ डोज ही दी जा सकती है फिर भी काफी लोग बच जाएंगे। ऐसे में बचे हुए लोगों को जल्दी से जल्दी वैक्सीनेट करने के लिए रोजाना दी जा रही वैक्सीन की खुराक बढ़ानी होंगी। नए टीकों की उपलब्धता बढ़ने से सितंबर से 80 से 90 लाख टीक रोज लगाए जा सकेंगे और अगले छह महीने में ही देश की लगभग पूरी आबादी को कोरोना प्रतिरोधक क्षमता दी जा सकेगी।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned