India-Nepal Tension: नेपाल ने रोका बांधों का मरम्मत कार्य, Bihar के बड़े हिस्से पर मंडराया बाढ़ का खतरा

  • India-Nepal के बीच सीमा विवाद का असर अब बिहार पर पड़ने लगा है
  • Nepal नदियों के बैराजों पर चल रहे मरम्मत कार्यों में बाधा डाल रहा है

नई दिल्ली। एक ओर जहां गलवान घाटी ( Galwan Valley ) में चीन ( China ) के साथ हमारा मोर्चा खुला हुआ है, वहीं भारत-नेपाल ( India-Nepal Tension ) के बीच सीमा विवाद को लेकर चल रही तनातनी का असर अब बिहार ( Bihar ) पर पड़ने लगा है। पिछले दिनों बिहार के सीतामढ़ी ( Sitamarhi ) में हुई गोलीबारी की गूंज अभी कम नहीं हुई थी कि नेपाल ने एक बार फिर हिमाकत दिखानी शुरू कर दी है। इस बार नेपाल नदियों के बैराजों पर चल रहे मरम्मत कार्यों में बाधा डाल रहा है। यही वजह है कि बिहार के एक बड़े हिस्से पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। इस गतिरोध को शांत करने के लिए बिहार सरकार ( Bihar Government ) ने विदेश मंत्रालय ( Foreign Ministry ) को पत्र भी लिखने की बात कही है।

यह खबर भी पढें— Delhi में घुसे Jaish-e-Mohammad और Lashkar के 4 आतंकी, Police Commissioner ने बुलाई बैठक

बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा के अनुसार यह विवाद गंडक नदी पर बने बैराज को लेकर है। झा ने कहा कि इस बैराज के 36 द्वार हैं, जिनमें से 18 नेपाल में हैं। भारत अपने हिस्सो में पड़ने वाले फाटक व बांधी की सफाई और मरम्मत का काम करा चुका है। जबकि नेपाल में आ रहे बांधों का मरम्मत का कार्य अभी शेष है। उन्होंने कहा कि अब जबकि शेष कार्य को पूरा किया जाना है तो नेपाल बांध मरम्मत के लिए सामग्री ले जाने पर रोक लगा रहा है।

यह खबर भी पढें— India-China Dispute: सरकार ने सेना को दी खुली छूट, जान को खतरा बने तो कर सकते हैं फायरिंग

जल संसाधन मंत्री ने कहा कि नेपाल ने न केवल तटबंध के काम पर रोक लगा दी है, बल्कि वह गंडक बांध के लिए मरम्मत कार्य की इजाजत भी नहीं दे रहा है। संजय झा ने कहा कि ऐसा पहली बार है, जब नेपाल की ओर से हमारी आवाजाही और मरम्मत कार्य के लिए सामग्री पहुंचाने पर रोक लगाई है। उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही नेपाल के हिस्से वाले बांधों का मरम्मत कार्य पूर्ण नहीं किया गया तो बिहार का एक बड़ा भाग बाढ़ की भेंट चढ़ सकता है।

यह खबर भी पढें— India-China Dispute: चीन पर जवाबी कार्रवाई के लिए सेना को 500 करोड़ का Emergency Fund

हालांकि फिलहाल बिहार के स्थानीय इंजीनियर और जिलाधिकारी इस मसले पर नेपाल के अधिकारियों से वार्ता कर रहे हैं। लेकिन समस्या के त्वरित समाधान के लिए वह अब विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखेंगे।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned