देश में दिसंबर 2021 तक 60 करोड़ लोगों का होना चाहिए कोविड टीकाकरण: डॉ. त्रेहन

डॉ. त्रेहन ने कहा है कि भारत में कोविड के कई नए टीके आ गए हैं और जुलाई-अगस्त तक वैक्सीन की कमी खत्म होने की संभावना है। ऐसे में देश को दिसंबर तक 60 करोड़ लोगों को COVID-19 वैक्सीन की दोनों खुराक से टीका लगाने में सक्षम होना चाहिए।

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण से जूझ रहे देश में तेजी के साथ टीकाकरण अभियान को आगे बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। लेकिन वैक्सीन की कमी की वजह से टीकाकरण अभियान में कई जगहों पर दिक्कतें आ रही है। हालांकि, केंद्र सरकार और तमाम राज्य सरकारों की ओर से सभी प्रकार के दिक्कतों को दूर कर तेजी के साथ लोगों को टीका लगाने पर काम किया जा रहा है।

इस बीच देश के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक मेदांता अस्पताल के अध्यक्ष डॉ. नरेश त्रेहन ने एक बड़ा बयान दिया है। डॉ. त्रेहन ने कहा है कि भारत में कोविड के कई नए टीके आ गए हैं और जुलाई-अगस्त तक वैक्सीन की कमी खत्म होने की संभावना है। ऐसे में देश को दिसंबर तक 60 करोड़ लोगों को COVID-19 वैक्सीन की दोनों खुराक से टीका लगाने में सक्षम होना चाहिए।

यह भी पढ़ें :- कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों में गिरावट, एक दिन में रिकॉर्ड 21.23 लाख से अधिक टेस्ट

उन्होंने आगे कहा "हम टीकों का निर्माण करने के लिए जाने जाते हैं। पहले से ही हमारे पास प्रति माह सात-आठ करोड़ खुराक उत्पादन करने की क्षमता है, लेकिन इसे बढ़ाने की जरूरत है। क्योंकि हमारी आबादी बहुत बड़ी है, इससे पहले कि हम हर्ड इम्युनिटी तक पहुंच गए हैं ऐसा कह सकें, इसके लिए 60-70 करोड़ लोगों को टीकाकरण की आवश्यकता है। '

डॉ. त्रेहन ने कहा "यदि आप दो खुराक के बीच के समयांतर को बढ़ाते हैं, तो पूर्ण प्रतिरक्षा प्राप्त करने के लिए इसे लगभग छह सप्ताह, अधिकतम आठ सप्ताह करना बेहतर होता है। कई नए टीके आ रहे हैं और हम उम्मीद कर रहे हैं कि जुलाई-अगस्त तक कोई कमी नहीं होगी। दिसंबर से पहले साल के अंत तक हम दोनों खुराक के साथ 60 करोड़ लोगों को टीकाकरण करने में सक्षम होना चाहिए।"

दो खुराकों के बीच 8 सप्ताह का अंतर

डॉ. त्रेहन ने कहा कि यूके में दो खुराक के बीच के अंतराल को बढ़ाकर 12 सप्ताह कर दिया गया था और भारत ने भी इसे अपनाया था, लेकिन वायरस के नए संस्करण के कारण अब फिर से दो खुराक के बीच के समयांतर को आठ सप्ताह तक सीमित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि अब यूके में यह पता चला है कि बी.1.617 उत्परिवर्तन कोरोना वायरस के खिलाफ एक खुराक पर्याप्त नहीं है। ऐसे में दो खुराकों के बीच के समय को घटाकर आठ सप्ताह कर दिया है। बता दें कि भारत में तेजी के साथ कोरोना टीका लगाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :- Covid-19 Vaccination: केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीनेशन का बदला नियम, अब ठीक होने के 3 महीने बाद लगेगा टीका

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अमरीका के बाद भारत 20 करोड़ COVID-19 टीकाकरण करने वाला दूसरा देश बन गया है। भारत में 60 वर्ष से ऊपर की 42 प्रतिशत आबादी को वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है।

बता दें कि भारत में अब तक वैक्सीन की 20,06,62,456 डोज दी जा चुकी है। इसमें 15,71,49,593 को पहली डोज और 4,35,12,863 को दूसरी डोज लगाई गई है। बीते 24 घंटों की बात करें तो 20,39,087 खुराक दी गई है। इसमें से 18,35,19 पहली डोज और 3,897 दूसरी डोज शामिल है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned