India Russia Deal: रूस से 70 हजार AK-103 राइफल्स खरीदेगा भारत, नवंबर तक आने की उम्मीद

India Russia Deal भारत ने रूस से AK सीरीज से लेटेस्ट 70 हजार राइफलों की खरीद के लिए डील पर हस्ताक्षर किए हैं, इंडियन स्मॉल आर्म्स सिस्टम (INSAS) असॉल्ट राइफल की जगह लेगी AK-103

नई दिल्ली। भारत और रूस ( India Russia Deal ) के बीच एक खास समझौता हुआ है। भारत ने 70000 लेटेस्ट AK 103 असॉल्ट राइफलों ( Assault Rifle ) की खरीद के लिए रूस के साथ एक समझौते पर दस्तखत किए हैं। ये AK 103 राइफल इस साल नवंबर से देश में आने शुरू हो सकते हैं।

ये करार रक्षा मंत्रालय ने देश की सशस्त्र सेनाओं के लिए किया है, लेकिन माना जा रहा है कि इसमें ज्यादातर राइफल भारतीय वायु‌सेना को दी जाएंगी।

भारत ने वर्ष 2019 में रूस के साथ अमेठी में ऑर्डनेंस फैक्टरी बोर्ड यानि ओएफबी के कोरबा प्लांट में 7.50 लाख एके-203 राइफल बनाने का करार किया था, लेकिन प्लांट में अब तक राइफल निर्माण का कार्य शुरू नहीं हुआ है।

यही वजह है भारत ने 70 हजार राइफल सीधे रूस से खरीदने का फैसला किया है। AK-47 का यह सबसे अडवांस्ड वर्जन इंडियन स्मॉल आर्म्स सिस्टम ( INSAS ) असॉल्ट राइफल की जगह लेगा। INSAS का इस्तेमाल 1996 से किया जा रहा है। इन राइफल में हिमालय की ऊंचाई पर जैम और मैगजीन के क्रेक होने जैसी समस्याएं पैदा होने लगी हैं।

यह भी पढ़ेंः Zydus Cadila Covid Vaccine: इन पांच खूबियों वाली वैक्सीन को मंजूरी मिलने पर पीएम मोदी ने दी बधाई

302.jpg

भारत को होगा ये फायदा
भारत और रूस ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं जो सरकार की 'मेक इन इंडिया' पहल के तहत असॉल्ट राइफलों के स्वदेशी उत्पादन के लिए रास्ता बनाएगा।

भारतीय सेना को घर पर कलाश्निकोव राइफलें बनाने का फायदा होगा, जिससे विदेशों से खरीदने की निर्भरता कम होगी। 6,50,000 कलाश्निकोव 7.62 मिमी एके-103 असॉल्ट राइफलों के निर्माण की योजना है, जो वर्तमान में चल रहे इंसास और एके-47 राइफलों की जगह लेगी।

अब जब भारतीय सेना इंसास को 6,50,000 मेड इन इंडिया एके 103 से बदलने की योजना बना रही है तो हमें एके 103 के बारे में पता होना चाहिए और यह आम एके 47 से किस तरह अलग है।

AK-47 और AK-103 के बाहरी रूप में अंतर
- AK 103 में प्लास्टिक का फर्नीचर है जबकि AK 47 में लकड़ी का फर्नीचर है इसलिए वजन कम होता है।
- AK 103 AK 47 की तुलना में थोड़ा लंबा है, इस तथ्य के कारण कि इसमें एक विस्तारित फ्लैश सप्रेसर है।

तकनीकी और प्रदर्शन में अंतर
- AK-103 में 3-राउंड बर्स्ट फीचर है, जिसमें फुल ऑटो और सिंगल शॉट के बीच 3 राउंड बर्स्ट फीचर हैं। पूर्ण ऑटो पर AK-47 फायरिंग एक अत्यंत अस्थिर हथियार है, जिसे लक्ष्य की ओर कुशलता से निर्देशित नहीं किया जा सकता है। वहीं AK-103 की परफॉर्मेंस ज्यादा सटीक है।
- AK-103 एक मिनट में 600 गोलियां या एक सेकंड में 10 गोलियां दाग सकती है।
- AK-103 को ऑटोमेटिक और सेमी ऑटोमेटिक दोनों ही मोड पर इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसकी मारक क्षमता 400 मीटर है, जो AK-47 से काफी ज्यादा है।
- AK 47 के 3.47 किलोग्राम (खाली वजन) के विपरीत AK 103 का वजन पूरी लोड होने के बाद 3.6 किग्रा है।
- AK-103 असॉल्ट राइफल पुराने AKM के समान 7.62×39mm M43 राउंड के लिए बनाई गई AK-74M के एडवांस रूप है।
- AK-103 को जगह के मुताबिक लोड किया जा सकता है, जैसे नाइट विजन और टेलीस्कोप, साथ ही चाकू या ग्रेनेड लॉन्चर शामिल हैं।
- लकड़ी या धातु के बजाय इसमें प्लास्टिक का इस्तेमाल ज्यादा है, जिनका यूज पिस्तौल आदि में मजबूत पकड़ के लिए होता है।

यह भी पढ़ेंः देहरादून की मिलिट्री एकेडमी में ट्रेनिंग ले चुका है Taliban का टॉप कमांडर स्टानिकजई, जानिए किस नाम से बुलाते थे दोस्त

AK-47 राइफल को मिखाइल कलाश्निकोव की ओर से 40 के दशक के अंत में बनाया गया था। AK-103 AK-74M पर आधारित है, जो मूल AK डिजाइन पर आधारित अधिक आधुनिक राइफल है।

AK-47 मूल "AK" था, वे मशीनी रिसीवर, भारी भागों और लकड़ी के फर्नीचर के साथ बनाए गए थे। लागत और निर्माण में आसानी के लिए डिजाइन को बदल दिया गया और एक मुद्रांकित रिसीवर (AKM) में बदल दिया गया, रूसियों ने फिर 5.45 पर स्विच किया और परिणामस्वरूप AK-47 को बंद कर दिया गया।
जब फिर से 7.62 हथियारों की जरूरत पड़ी, तो उन्होंने AK-103 का निर्माण शुरू किया।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned