भारतीय सेना में बड़े सुधार की तैयारी, खत्म हो सकता है ब्रिगेडियर का पद!

भारतीय सेना में बड़े सुधार की तैयारी, खत्म हो सकता है ब्रिगेडियर का पद!

सेना की ओर से यह कदम सिविल सेवाओं की तर्ज पर करियर की बेहतर संभावनाओं के लिए उठाया जा रहा है।

नई दिल्ली। भारतीय सेना में बड़ा बदलाव होने को है। सेना आॅफिसर कैडर में तब्दीली करने जा रही है। जानकारी के अनुसार सेना अपनी आॅफिसर रैंक में कटौती कर ब्रिगेडियर का पद खत्म कर सकती है। दरअसल, सेना की ओर से यह कदम सिविल सेवाओं की तर्ज पर करियर की बेहतर संभावनाओं के लिए उठाया जा रहा है। आपको बता दें सेना में इस तरह का बदलाव 35 साल बाद किया जा रहा है।

सेंट्रल दिल्ली में किन्नर ने 6 साल की बच्ची के साथ की दरिंदगी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

सेना के एक सीनियर आॅफिसर के मुताबिक आर्म्ड फॉर्सेस लंबे समय से अपने पुराने ढांचे पर चली आ रही है, जबकि सिविल सर्विस में भी 6 पदों की व्यवस्था की गई है। आॅफिसर ने बताया कि सेना में ब्रिगेडियर रैंक हटाने को हटाने का प्रस्ताव आया है। अभी तक इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि कोई भी निर्णय लेने से पहले इस प्रस्ताव पर व्यापक चर्चा की जाएगी। आपको बता दें कि सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जून 2018 में ऑफिसर कैडर में बदलाव के लिए एक एक समिति का गठन किया था। इस कमेटी को नवंबर माह के अंत तक अपनी रिपोर्ट सबमिट करनी है।

हिन्दू पाकिस्तान: थरूर के बयान पर भाजपा का पलटवार, कांग्रेस को बताया सांप्रदायिक पार्टी

सेना सूत्रों के अनुसार ब्रिगेड कमांडर का पद वरिष्ठता में सिविल सर्विस में आईजी से ऊपर होता है। लेकिन ब्रिगेडियर से ज्यादा पे-ग्रेड आईजी पुलिस से कम होता है। यही कारण है कि सेना की आॅफिसर रैंक में बदलाव कर इस तरह के फर्क को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। आपको बता दें कि सिविल सर्विस में आने वाले आॅफिसर 18 सालों के सर्विस टाइम में संयुक्त सचिव तक बन जाते हैं, जबकि सेना में उसक समान लेवल पाने के लिए 32-33 साल का समय लग जाता है।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned