scriptIs Migrant Workers Responsible For Coronavirus cases increased in Bihar | Lockdown In Bihar: क्या बिहार लौटकर आने वाले प्रवासी मजदूर हैं राज्य में corona के बढ़ने की वजह? | Patrika News

Lockdown In Bihar: क्या बिहार लौटकर आने वाले प्रवासी मजदूर हैं राज्य में corona के बढ़ने की वजह?

  • Bihar में कोरोना संक्रमितों (coronavirus) का आंकड़ा एक लाख के पार पहुंचा
  • राज्य में एक बार फिर छह सितंबर तक के लिए Lockdown की घोषणा
  • क्या राज्य में प्रवासी मजूदरों (Migrant Labourers) के कारण कोरान के केस बढ़े हैं?

नई दिल्ली

Published: August 17, 2020 04:24:24 pm

नई दिल्ली। भारत (coronavirus in India) में हर तरफ कोरोना वायरस का कहर है। देश का अधिकांश हिस्सा इस महामारी की चपेट में है। वहीं, कुछ राज्यों में इस वायरस के कारण स्थिति काफी भयावह हो गई है। इधर, बिहार (coronavirus in Bihar) में यह वायरस काफी तेजी से फैलता जा रहा है। आलम ये है कि राज्य में कोरोना संक्रमितों (COVID-19) का आंकड़ा एक लाख के पार पहुंच चुका है, जबिक पांच सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, ठीक होने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। इधर, मामले की गंभीरता को देखते हुए नीतीश सरकार (Nitish Government) ने एक बार फिर लॉकडाउन (Bihar Lockdown) की घोषणा की है। नई गाइडलाइंस के मुताबिक, राज्य में अगामी छह सितंबर तक लॉकडाउन (Lockdown) की मियाद रहेगी। इस दौरन जो पांबदी लगी थी, वह जारी रहेगी। लेकिन, सवाल ये है कि आखिर बिहार में कोरोना बढ़ने की वजह क्या है? क्या प्रवासी मजदूरों ( Migrant Labourers ) के कारण राज्य में कोरोना के मामले इतने बढ़े है?
Is Migrant Workers Responsible For Coronavirus cases increased in Bihar
बिहार में कोरोना वायरस फैलने के लिए आखिर कौन जिम्मेदार हैं?
सबसे पहले नजर डालते हैं बिहार में कोरोना के आंकड़े पर। राज्य में कोरोना संक्रमितों (corona Cases in Bihar) की संख्या 1,03,383 हो गई है। इनमें 31059 एक्टिव केस हैं। वहीं, 72,324 लोग इस महामारी से ठीक हो चुके हैं। जबकि, अब तक 537 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में कोरोना वायरस का पहला मामला 22 मार्च को आया था। वहीं, देश में 25 मार्च से लॉकडाउन (Lockdown in Bihar) की घोषणा हुई थी। शुरुआत में राज्यों में कोरोना वायरस (COVID-19) की रफ्तार कााफी धीमी थी। ग्रामीण इलाकों में केस न के बराबर था। वहीं, लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा होते ही प्रवासी मजदूरों (Migrant Labourers) का पलायन शुरू हो गया। शुरुआत में तो प्रवासी मजदूर पैदल, बाइक, साइकिल के जरिए ही घरों के लिए करने लगे। परिणाम ये हुआ कि उन मजदूरों की न तो चेकिंग हो सकी और ना ही टेस्ट किया गया। लिहाजा, बिना किसी जांच के काफी संख्या में प्रवासी मजदूर राज्य के अंदर पहुंच गए। इनमें सबसे ज्यादा दिल्ली, मुंबई, गुजरात, तमिलनाडु से मजदूर लौटे थे और उस वक्त वहां कोरोना वायरस कहर बनकर टूट चुका था।
वहीं, बाद में केन्द्र सरकार (Central Government) ने मजदूरों की वापसी के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन ( Shramik Special Train ) चलाई। इसके अलावा बसों (Bus) और ट्रकों (Truck) से भी प्रवासी मजदूरों (Migrant Labourers) की वापसी होने लगी। परिणाम ये हुआ कि जैसे-जैसे प्रवासी मजूदरों की वापसी होने लगी, कोरोना के मामले बढ़ने लगे। राज्य सरकार ने बाहर से आने वालों के लिए 14 दिनों क्वारंटाइन ( Quarantine ) अनिवार्य कर दिया। बाहर से आए लोगों की जब कोरोना जांच (corona Test) होने लगी तो केस की संख्या भी बढ़ने लगी। शुरुआत में खबर ये आई कि दिल्ली से आने वाले ज्यादातर लोग कोरोना संक्रमित हैं। इसके बाद धीरे-धीरे दूसरे राज्यों से भी कोरोना संक्रमित बिहार पहुंचने लगे। बीच में राज्य सरकार ने तो यहां तक कह दिया था कि प्रवासियों को संभालना मुश्किल हो रहा है। लिहाजा, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों (Shramik Special Train) की संख्या कम करने के लिए भी कहा गया था। धीरे-धीरे टेस्ट की संख्या बढ़ी और कोरोना के मामले बढ़ने लगे। आलम ये है कि राज्य के ज्यातार इलाकों में कोरोना वायरस फैल चुका है। हालांकि, अब प्रवासी मजदूरों का पलायन बंद हो चुका है, लेकिन कोरोना का कहर लगातार जारी है। राज्य में औसतन हर दिन दो हजार से ज्यादा केस आ रहे हैं। कई बार यह कहा जा चुका है कि बिहार प्रवासी मजूदरों के कारण ही कोरोना वायरस इतना बढ़ा है। कहीं न कहीं एक हद तक यह सही भी है। क्योंकि, रिपोर्ट के मुताबिक, 25 से 30 लाख प्रवासी मजदूर लॉकडाउन के दौरान बिहार लौटे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Constable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाब30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नियुक्त किया नया पीएमSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोल'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौतीHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हलताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.