Jammu kashmir: लगातार तीसरे दिन दिखा ड्रोन, गृहमंत्रालय ने NIA को सौंपी जांच

Jammu Kashmir के सुंजवान मिलिट्री स्टेशन के पास फिर दिखा ड्रोन, लगातार तीसरे दिन, तीन अलग-अलग वक्त पर दिखा ड्रोन, बिना अनुमति ड्रोन रखने वालों पर पुलिस कर रही कार्रवाई

नई दिल्ली। जम्मू एयरबेस ( Jammu Airbase ) परिसर में स्थित वायुसेना स्टेशन के बाहर हुए ड्रोन धमाके ( Drone Attack ) के बाद लगातार तीसरे दिन तीसरी बार ड्रोन को देखा गया। सोमवार रात को जम्मू के सुंजवान मिलिट्री स्टेशन के पास ड्रोन को देखा गया।

रत्नुचक सुंजवान मिलिट्री स्टेशन के पास तीसरे दिन ड्रोन देखे जाने के बाद हड़कंप मच गया। सुरक्षा बल के जवानों समेत एजेंसियां पर अलर्ट हो गईं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुरक्षाकर्मियों ने सोमवार देर रात में करीब तीन बार अलग अलग जगहों पर ड्रोन को उड़ता हुआ पाया।

यह भी पढ़ेंः जम्मू में आर्मी कैम्प के ऊपर फिर दिखे दो ड्रोन, सुरक्षा बल के जवानों ने की फायरिंग

सोमवार देर रात को एक बार फिर से ड्रोन देखा गया है। हालांकि अभी तक इसकी किसी ने अधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं की है, लेकिन सूत्रों के अनुसार, बीती रात को रत्नूचक्क में संदिग्ध ड्रोन को उड़ते हुए देखा गया। बताया जा रहा है कि ये ड्रोन तीन बार अलग-अलग समय पर देखा गया।

इन वक्तों पर देखा गया ड्रोन
पहले ड्रोन को रात 1 बजे के आसपास रत्नुचक इलाके में देखा गया। इसके बाद करीब 3.09 बजे कुंजवानी में और फिर सुबह 4.19 बजे के आसपास कुंजवानी इलाके में देखा गया। हालांकि ड्रोन थोड़े ही देर के बाद गायब हो गया।

शनिवार और रविवार देर रात भी दिखा ड्रोन
इससे पहले शनिवार देर रात को वायुसेना स्टेशन के बाहर हुए ड्रोन हमले के बाद रविवार देर रात और सोमवार अलसुबह को भी कालूचक इलाके में ड्रोन को ऊंचाई पर उड़ते हुए देखा गया था। लगातार तीसरे दिन ड्रोन को देखे जाने के बाद सुरक्षा एजेंसियां चौकन्ना हो गई है।

इस बात की जांच में जुटीं एजेंसियां
सुरक्षा एजेंसियां इस बात की भी जांच कर रही है कि सोमवार को तीन अलग अलग जगहों पर दिखे ड्रोन एक ही थे या अलग अलग थे।

NIA को सौंपी जांच
ड्रोन हमले के 48 घंटे बाद भी कोई खास सुराग नहीं मिल पाने के बाद अब गृहमंत्रायल ने हमले की जांच का जिम्मा एनआईए को सौंप दिया है। बता दें कि वायुसेना इस हमले की जांच कर रही है। इसके अलावा एफएसएल की टीम को भी जांच का जिम्मा सौंपा गया है।

पाकिस्तान से जुड़े तार
मामले में जांच कर रही एनएसजी के विशेष बम निरोधक दस्ते की ओर से अब तक आरडीएक्स और टीएनटी विस्फोटक पदार्थ इस्तेमाल किए जाने की बात सामने आई है।

यही नहीं हमले के तार पाकिस्तान से भी जुड़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि ड्रोन को सीमा पार पाकिस्तान से कंट्रोल किया जा रहा था। हालांकि, एजेंसी लोकल हेंडलर के शामिल होने की बात को फोकस में रखकर भी जांच कर रही है।

यह भी पढ़ेंः Jammu Kashmir: एनकाउंटर में सेना के जवानों को बड़ी कामयाबी, मार गिराया लश्कर का टॉप कमांडर अबरार

बिना अनुमति ड्रोन रखने वालों पर कार्रवाई
आतंकियों की ओर से हमले में ड्रोन का इस्तेमाल किए जाने के बाद पुलिस ने प्रदेश के विभिन्न संस्थानों और लोगों के पास उपलब्ध ड्रोन का ब्यौरा जमा करने और उन्हें कब्जे में लेना शुरू कर दिया है।

सिर्फ लायसेंस धारकों को इजाजत
वही लोग अपने पास ड्रोन रख सकेंगे, जिन्होंने नियमों के अनुरूप इसे खरीदा होगा और नागरिक उड्डयन निदेशालय या संबंधित प्रशासन से इसके इस्तेमाल का लाइसेंस प्राप्त किया होगा।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned