Coronavirus के साथ देश में अब ब्लैक फंगस से जा रही लोगों की जान, जानिए क्या हैं लक्षण?

कोरोना वायरस के साथ ही इस समय देश म्यूकोरमाइसिस यानी काले कवक का सामना करने को है

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ( Coronavirus in india ) का खतरा कम नहीं हुआ था कि एक और बीमारी ने लोगों की जान मुसीबत में डाल दी है। कोरोना वायरस के साथ ही इस समय देश म्यूकोरमाइसिस ( Mucormycosis fungus ) यानी काले कवक का सामना करने को है। म्यूकोरमाइसिस का खतरा कोरोना वायरस के मरीजों ( corona patients ) को सबसे अधिक है। इस बात का अंदाजा महाराष्ट्र में इस बीमारी से अब तक हो चुकी आठ लोगों की मौत से लगाया जा सकता है। जबकि गुजरात के सूरत में समय पर इलाज न मिलने की वजह से डॉक्टरों को कुछ मरीजों की आंख तक निकालनी पड़ी है।

 

6.png

म्यूकोरमाइकोसिस के खतरे की ओर बढ़ रहा देश

चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान निदेशालय डीएमईआर के चीफ डॉक्टर तात्याराव लहाने की माने तो देश लगातार म्यूकोरमाइकोसिस के खतरे की ओर बढ़ रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस की पिछली लहर में इस फंगस का खतरा दिखाई पड़ा था, लेकिन इस बार यह खतरा कहीं ज्यादा खतरनाक है। यह फंगस अगर मरीज के दिमाग तक पहुंच जाता है तो फिर उसका बचने की संभावना न के बराबर ही रहती है। डॉक्टरों ने इसके लक्षण सर दर्द, आंखों में जलन, नाक बंद होना, आधे चेहरे पर सूजन आना, साइनस की परेशानी आदि बताई है। बताया जा रहा है कि फंगस आंखों और चेहरे के रास्ते ही दिमाग तक पहुंचता है।

खुलासा: कोरोना से बचाव के लिए 6 फीट की दूरी भी नाकाफी, जानिए क्या है बचाव का असली तरीका?

5.png

नम सतहों पर पाया जाता है

नीति आयोग के सदस्य हेल्थ वीके पॉल ने जानकारी देते हुए बताया कि म्यूकोरमाइकोसिस बीमारी की मुख्य वजह म्यूकर नाम का फंगस है। यह नम सतहों पर पाया जाता है। वीके पॉल ने बताया कि जब कोरोना मरीज को ऑक्सीजन सिस्टम या वेंटिलेटर पर रखा जाता है तो मरीज के म्यूकोरमाइकोसिस की चपेट में आने का खतरा अधिक बढ़ जाता है। वहीं, सर गंगाराम हॉस्पिटल के ईएनटी सर्जन डॉक्टर मनीष मुंंजाल के मुताबिक कोरोना वायरस की वजह से होने वाले फंगस संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में ही म्यूकोरमाइसिस के छह मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। इस बीमारी की वजह से कई मरीजों की आंखें जाने और नाक व जबड़े की हड्डी टूटने के मामले भी सामने आए हैं।

कोरोना से हाहाकार के बीच भाजपा नेता के प्लॉट में खड़ी मिलीं इतनी एंबुलेंस, पप्पू यादव ने खोला मोर्चा

r.png

चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान निदेशालय डीएमईआर के चीफ डॉक्टर तात्याराव लहाने ने बताया कि यूं तो यह कवक संक्रमण से जुड़ी बीमारी पहले से ही मौजूद थी, लेकिन अब इसके अधिक मामले कोरोना मरीजों से संबंधित ज्यादा मिल रहे हैं। जिसकी एक वजह कोरोना मरीजों को दिए जाने वाले स्टेरॉइड भी हो सकते हैं, क्योंकि ये मरीज के ब्लड में सर्करा का लेवल काफी बड़ा देते हैं।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned