धारा 370 खत्म होने के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में आई कमी: गृह राज्य मंत्री

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किशन रेड्डी ने राज्यसभा में जवाब देते हुए कहा कि धारा 370 खत्म किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में कानून-व्यवस्था की घटनाओं में एक भी नागरिक की मौत नहीं हुई है और आतंकी घटनाओं में कमी आई है।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने को लेकर अभी भी विपक्ष तमाम तरह के सवाल खड़े कर रहा है और मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश में जुटा है। लेकिन सरकार भी हर मोर्चे पर विपक्ष का जवाब देने के लिए तैयार है। अब इसी कड़ी में बुधवार को राज्यसभा में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने एक लिखित जवाब में बड़ा बयान दिया है।

रेड्डी ने कहा कि धारा 370 खत्म किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में कानून-व्यवस्था की घटनाओं में एक भी नागरिक की मौत नहीं हुई है। उन्होंने यह भी बताया कि आर्टिकल 370 खत्म होने के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में कमी आई है। हालांकि, इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि आतंकी घटनाओं और साथ ही क्रॉस बॉर्डर फायरिंग या सुरक्षाबलों व आतंकियों के बीच मुठभेड़ में मारे गए आम नागरिकों को सरकार की ओर से एक लाख रुपये अनुग्रह राशि के तौर पर भुगतान किया जाता है।

यह भी पढ़ें :- Article 370 की समाप्ती के एक साल पूरा होने पर फिर दिखी China की बेचैनी, India के फैसले को बताया अवैध और अमान्य

जीके रेड्डी ने अपने लिखित जवाब में आगे ये भी बताया कि आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में कमी आई है। उन्होंने कहा 2019 में 594 लोग, 2020 में 244 लोग और 2021 में (15 मार्च तक) 21 आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया गया है।

 

दिल्ली में अपराध में आई कमी

आपको बता दें कि गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने एक अन्य सवाल पर लिखित जवाब देते हुए बताया कि राजधानी दिल्ली में अपराधों में भी कमी आई है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, 2019 की तुलना में 2020 में दर्ज किए गए कुल IPC अपराधों में 16.86 फीसदी की गिरावट है। वहीं 2020 की तुलना में 2021 के पहले दो महीने (जनवरी-फरवरी) में दर्ज कुल IPC अपराधों में 12.82 फीसदी की कमी है।

यह भी पढ़ें :- Pakistan: कश्मीर पर Imran का भारत विरोधी एजेंडा तैयार, Article 370 हटाने के खिलाफ बनाया 18 सूत्री प्लान

उन्होंने एक अन्य जवाब में बताया कि 31 दिसंबर 2019 तक देश की सभी जेलों की कुल उपलब्ध क्षमता 4,03,739 थी, जिसमें 4,78,600 कैदी बंद थे। इसमें से 3,30,487 अंडरट्रायल कैदी थे।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned