script ट्विटर के बाद अब फेसबुक को संसदीय समिति का कड़ा संदेश, वैक्सीन लीजिए और जवाब देने के लिए सामने आइए | parliamentary panel to facebook no virtual meeting only person appeara | Patrika News

ट्विटर के बाद अब फेसबुक को संसदीय समिति का कड़ा संदेश, वैक्सीन लीजिए और जवाब देने के लिए सामने आइए

locationनई दिल्लीPublished: Jun 20, 2021 08:11:11 am

Submitted by:

Shaitan Prajapat

सूचना प्रौद्योगिकी की संसदीय स्थाई कमेटी ने सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक के वर्चुअल मीटिंग के आग्रह को ठुकरा दिया है। कहा है कि फेसबुक प्रतिनिधियों को पैनल के सामने शारीरिक रूप से उपस्थित होना होगा।

shashi tharoor
shashi tharoor

नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर के बाद अब फेसबुक सुर्खियों में छाया हुआ है। सूचना प्रौद्योगिकी की संसदीय स्थाई कमेटी ने सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक के वर्चुअल मीटिंग के आग्रह को ठुकरा दिया है। कांग्रेस सांसद शशि थरूर की अध्यक्षता वाली सूचना एवं प्रौद्योगिकी संबंधी संसदीय स्थाई समिति ने फेसबुक को सख्त संदेश देते हुए कहा है कि कंपनी की नीतियां क्या कहती हैं, फेसबुक प्रतिनिधियों को पैनल के सामने शारीरिक रूप से उपस्थित होना होगा।


फेसबुक का बैठक में व्यक्तिगत रूप में पेश होने से इनकार
दरअसल, फेसबुक ने महामारी कोरोना वायरस का हवाला देते हुए कांग्रेस सांसद शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदी की स्थाई कमेटी में व्यक्तिगत रूप से बैठक में पेश होने के लिए इनकार कर दिया, जिसकी वजह से फेसबुक के अधिकारियों ने वर्चुअली मीटिंग में आने का अनुरोध किया है। यह बयान ऐसे वक्त में आया है, जब एक दिन पहले ही समिति ने ट्विटर के प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी और उन्हें याद दिलाया था कि माइक्राब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म को देश के कानूनों का पालन करना होगा।

यह भी पढ़ें

राम के नाम पर भिड़े शिवसेना-बीजेपी कार्यकर्ता: पुलिस ने किया लाठीचार्ज, 30 के खिलाफ मामला दर्ज

संसदीय कमेटी ने अपनाया सख्त रुख
फेसबुक ने संसदीय समिति को सूचित किया था कि वे ऑनलाइन मीटिंग में हिस्सा ले सकते हैं, जिसे समिति ने खारिज कर दिया था। फेसबुक के इस जवाब के बाद संसदीय कमेटी ने भी अब सख्त रुख अपनाया है। कमेटी के सभी सदस्यों को स्पष्ट करते हुए बताया है कि कोई भी बैठक ऑनलाइन यानी वर्चुअली नहीं की जा सकती है। फेसबुक के अधिकारियों को व्यक्तिगथ रूप से मौजूद रहना होगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक थरूर ने अब इस पर जोर दिया है संसदीय नियम ऑनलाइन बैठकों पर रोक लगाते हैं। हालांकि, अभी तक बैठक की तारीख पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। समिति ने कहा है कि वे कंपनी के सदस्यों को टीका लगाने के लिए पर्याप्त समय देंगे, लेकिन मुलाकात सामने मौजूद होकर ही की जाएगी।

यह भी पढ़ें

विजय माल्या की संपत्ति 23 जून को होगी नीलाम, SBI की अगुवाई में 6200 करोड़ रुपए मिलने की उम्मीद

गूगल, यूट्यूब से भी होगी मीटिंग
आपको बता दे कि पैनल ने एक दिन पहले यानी शुक्रवार को ट्विटर के अधिकारियों से सोशल मीडिया के लिए नए नियमों को पूरी तरह से लागू नहीं करने, अन्य मुद्दों के अलावा 90 मिनट से अधिक समय तक पूछताछ की। यह अब इस तरह की इन-पर्सन मीटिंग के लिए गूगल, यूट्यूब और अन्य सोशल मीडिया की बड़ी कंपनियों को भी बुलाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो