पीएम मोदी ने डॉक्टरों के साथ की मीटिंग, कोरोना से निपटने की रणनीति पर किया विचार

पीएम मोदी ने मीटिंग में डॉक्टरों से अपील करते हुए कहा कि वे कोरोना के उपचार और रोकथाम को लेकर अफवाहों के विरुद्ध लोगों को जागरुक करें ताकि लोगों में दहशत न फैलें।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश भर के डॉक्टर्स के साथ आज एक मीटिंग की। मीटिंग के दौरान उन्होंने डॉक्टर्स, मेडिकल स्टाफ तथा पैरा-मेडिकल स्टाफ की भूमिका की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हम पिछले वर्ष हमारे मेडिकल स्टाफ की कड़ी मेहनत और बेहतर रणनीति के चलते कोरोना वायरस के फैलाव को नियंत्रित करने में सफल रहें। आज कोरोना की दूसरी लहर को भी हमारे डॉक्टर्स और अन्य कार्यकर्ता अपनी पूरी ताकत के साथ रोकने का प्रयास कर लाखों नागरिकों का जीवन बचा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : कोरोना वैक्सीन लगने के बाद भी इसलिए आती है कोविड टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव

उन्होंने मीटिंग में डॉक्टरों से अपील करते हुए कहा कि वे कोरोना के उपचार और रोकथाम को लेकर अफवाहों के विरुद्ध लोगों को बताएं ताकि लोगों में दहशत न फैलें। साथ ही उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों की काउंसलिंग पर भी जोर दिया। मोदी ने कहा कि अन्य बीमारियों के इलाज के लिए हमें टेली-मेडिसिन का प्रयोग करना चाहिए। पीएम ने कहा कि इस बार कोरोना टीयर 2 और टीयर 3 शहरों में भी तेजी से फैल रहा है। उन्होंने डॉक्टरों से कहा कि वे ऐसे स्थानों पर काम करने वाले मेडिकल स्टाफ से अपने अनुभव शेयर करें और उन्हें प्रोटोकॉल का सही तरीके से पालन करना सिखाएं।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का बड़ा फैसला, रेगुलर मेडिकल उपकरणों के लाइसेंस की वैधता 6 महीने एक्सटेंड

मीटिंग में पीएम मोदी के साथ केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव, केन्द्रीय औषधि सचिव सहित अन्य कई मंत्रालयों तथा विभागों के अधिकारी एवं आईसीएमआर के महानिदेशक भी मौजूद थे।

PM Narendra Modi Corona virus
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned