अंतरिक्ष में सैटेलाइट के साथ जाएगी PM मोदी की ये वाली तस्वीर, जानिए कब है लॉन्चिंग

  • ISRO के साथ स्पेसकिड्स इंडिया भेजेगा नैनो सैटेलाइट
  • सैटेलाइट के साथ अंतरिक्ष में भेजी जाएगी भगवद् गीता और पीएम मोदी की तस्वीर

नई दिल्ली।इसरो अपने पहले मिशन के तहत 28 फरवरी को ब्राजील के उपग्रह अमेजोनिया-1 (Amazonia 1) और तीन भारतीय पेलोड को लॉन्च करने जा रहा है। ये तीनों भारतीय सैटेलाइट असल में भारत के ही स्टार्टअप्स द्वारा विकसित की गई हैं। इन सैटेलाइट के नाम आनंद, सतीश धवन सैटेलाइट और यूनिटीसैट हैं।सतीश धवन सैटेलाइट को स्पेस किड्स इंडिया नाम के स्टार्टअप ने बनाया है।सबसे बड़ी बात इस सैटेलाइट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो और नाम भी छपा हुआ है।

अब आपको नहीं Google Maps की जरूरत, ISRO लेकर आया यह नई टेक्नोलॉजी

isro-1612514325.jpg

मिली जानकारी के अनार, सतीश धवन सैटेलाइट पहली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर और भगवद गीता समते 25,000 भारतीय लोगों (विशेषकर छात्रों) का नाम लेकर अंतरिक्ष में पहुंचेगा। इस सैटेलाइट का प्रक्षेपण उपग्रह प्रक्षेपण यान PSLV-C51 से दो अन्य निजी उपग्रहों के साथ करेगा। इसरो के मुताबिक, इन उपग्रहों को श्रीहरिकोटा (Sriharikota) स्पेसपोर्ट से सुबह 10 बजकर 24 मिनट पर लांच किया जाएगा।

सतीश धवन सैटेलाइट को बनाने वाली कंपनी स्पेस किड्स इंडिया के संस्थापक और CEO डॉ श्रीमथि केसन ने मीडिया को बताया कि अंतरिक्ष में जाने वाला उनका पहला उपग्रह होगा। उन्होंने कहा, ‘ हमारा पूरा स्टाफ काफी एक्साइटमेंट में है। जब हमने मिशन को अंतिम रूप दिया, तो हमने लोगों से उनके नाम भेजने को कहा जो अंतरिक्ष में भेजे जाएंगे। इसके बाद एक हफ्ते के अंदर हमें 25,000 आवेदन मिले। इनमें से 1,000 नाम भारत के बाहर के लोगों के थे।

मिशन 'गगनयान’: मानवरहित अंतरिक्ष मिशन इस वर्ष के अंत तक, रोबोट ‘व्योममित्रा’ अंतरिक्ष में पहले जाएगी

isro-pslv-120.jpg

केसन ने कहा, ‘कई स्पेस मिशन में लोग अपने साथ बाइबल लेकर जाते हैं। इसी को देखते हुए सैटेलाइट में भगवत गीता और पीएम मोदी की तस्वीर भेजने का फैसले लिया गया है। हमारा मानना है कि ये सैटेलाइट आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देगी, क्योंकि ये पूरी तरीके से भारत द्वारा विकसीत की गई है। इसलिए इसके साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है।’ उन्होंने आगे बताया कि ‘इसमें एक चिप भी जो पूरी गीता को टेक्स्ट फॉर्म में लेकर इस सैटेलाइट के साथ जा रही है’

बता दें इस सतीश धवन एक नैनो सैटेलाइट है और इसका नाम स्पेसकिड्ज के संस्थापक के पिता के नाम पर रखा गया है। जो छात्रों के बीच अंतरिक्ष विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए समर्पित एक संगठन है।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned