scriptNEP की पहली वर्षगांठ आज, देश को संबोंधित करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी | PM Modi will Address to Nation today after one year of National Education Policy | Patrika News

NEP की पहली वर्षगांठ आज, देश को संबोंधित करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

locationनई दिल्लीPublished: Jul 29, 2021 09:10:30 am

नई शिक्षा नीति का एक वर्ष पूरा होने पर देश को संबोधित करेंगे पीएम मोदी, शिक्षा से जुड़े कार्यक्रमों की भी करेंगे शुरुआत

PM Narendra Modi
PM Narendra Modi
नई दिल्ली। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति ( NEP ) के एक साल पूरे होने पर गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) देश को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी वर्चुअल कॉन्फ्रेंस के जरिए देश की जनता से रूबरू होंगे। इस दौरान वह शिक्षा क्षेत्र में कई पहल भी शुरू कर सकते हैं।
केंद्रीय शिक्षा मंत्री ध्रमेंद्र प्रधान ने इसकी पुष्टि की है, उन्होंने ट्वीट कर लिखा, आने वाली 29 जुलाई, 2021 को राष्ट्रीय शिक्षा नीति, एनईपी लागू होने का एक साल पूरा होने पर पीएम मोदी राष्ट्र को संबोधित करेंगे। ये कार्यक्रम शाम 4 बजे आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम में पीएम मोदी के संबोधन के बाद शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का भी संबोधन होगा।
यह भी पढ़ेंः केंद्र सरकार घर बैठे दे रही 15 लाख रुपए कमाने का मौका, बस करना होगा ये काम

नई शिक्षा नीति की पहली वर्षगांठ के इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शिक्षकों और छात्रों के साथ शाम 4 बजे देश को संबोधित करेंगे। डिजिटल माध्यम से आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम को लेकर पीएमओ ने कहा है कि प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम में एकेडमिक बैंक ऑफ क्रेडिट का शुभारंभ करेंगे जो उच्च शिक्षा में छात्रों के लिए कई प्रवेश और निकास का विकल्प प्रदान करेगा।
इसके साथ ही क्षेत्रीय भाषाओं में प्रथम वर्ष के इंजीनियरिंग कार्यक्रम और उच्च शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के लिए दिशानिर्देश भी जारी किए जाएंगे।

कार्यक्रम के दौरान नेशनल डिजिटल एजुकेशन आर्किटेक्चर (NDEAR) और नेशनल एजुकेशन टेक्नोलॉजी फोरम (NETF) भी लॉन्च किए जाएंगे।
यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी ने धार्मिक नेताओं से की अपील, कोरोना वैक्सीन के प्रति झिझक दूर करने में करें मदद

क्या है एनईपी का मकसद
नेशनल एजुकेशन पॉलिसी ने 1986 में बनाई गई शिक्षा पर राष्ट्रीय नीति की जगह ली है। इसका मकसद भारत को वैश्विक ज्ञान महाशक्ति बनाने के लिए स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणालियों को सुधारों का रास्ता दिखाना है।
इस नई शिक्षा नीति के तहत शिक्षा क्षेत्र पर केंद्र और राज्य के सहयोग से देश की जीडीपी के 6 फीसदी हिस्से के बराबर निवेश का लक्ष्य रखा गया है।

ट्रेंडिंग वीडियो