जस्टिस एनवी रमण SC का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जारी किया आदेश

जस्टिस एनवी रमण 24 अप्रैल को CJI के रूप में पदभार ग्रहण करेंगे। वह सीजेआई एसए बोबडे की जगह लेंगे।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) के अगले मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमण ( Justice NV Ramana ) होंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ( President Ramnath Kovind ) ने भारत के अगले मुख्य न्यायाधीश के रूप में आज उनकी नियुक्ति कर दी है। इसके लिए राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जरूरी नियुक्ति का वारंट भी जारी कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के सीजेआई ( CJI ) के रूप में जस्टिस रमण 24 अप्रैल को पदभार ग्रहण करेंगे।

यह भी देखें : सुप्रीम कोर्ट ने 20 मिनट के सफर में दो घंटे लगने पर केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को भेजा नोटिस

सीजेआई बोबडे 23 अप्रैल को होंगे रिटायर

जस्टिस एनवी रमण CJI अशोक ए बोबडे की जगह लेंगे और इस पद पर एक साल चार महीने तक कार्यरत रहेंगे। बता दें कि वर्तमान CJI एसए बोबडे 23 अप्रैल को रिटायर हो रहे हैं।

दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं जस्टिस रमण

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एनवी रमण आंध्र प्रदेश के कृषि परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उन्हें जून 2000 में एपी उच्च न्यायालय के स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। फरवरी, 2014 में एनवी रमण सुप्रीम कोर्ट के जज बनने से पहले दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं।

यह भी देखें : Punjab : बाहुबली मुखतार अंसारी आज यूपी आने के बदले मोहाली कोर्ट में हुआ पेश, वापस गया रोपड़ जेल

जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट बहाल करने का सुनाया था फैसला

जस्टिस रमण की बेंच ने जम्मू और कश्मीर में इंटरनेट प्रतिबंधों पर फैसला दिया था कि इंटरनेट के निलंबन पर सरकार तुरंत समीक्षा करे। उनके इस फैसले के बाद केंद्र सरकार ने इंटरनेट पर से प्रतिबंध हटा लिया था। जस्टिस रमण उस पांच जजों की बेंच का भी हिस्सा थे जिसने कहा था कि CJI ऑफिस RTI के तहत आएगा।

जगन मोहन रेड्डी ने लगाया था पक्षपात का आरोप

आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्डी ने उन पर पक्षपात का आरोप लगाया था जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned