जाने माने सितारवादक प्रीतक चौधरी भी कोरोना से हारे जंग, एक हफ्ते पहले पिता देबू चौधरी का हुआ था निधन

नहीं रहे मशहूर सितारवादक प्रीतक चौधरी, दिल्ली के अस्पताल में चल रहा था कोरोना का इलाज

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( coronavirus ) का खतरा लगातार बढ़ रहा है। दूसरी लहर ने देशभर में तबाही मचाई हुई है। इस घातक वायरस के चलते कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। क्या आम क्या खास हर किसी को कोरोना अपना शिकार बनाता जा रहा है। इसी कड़ी में मशहूर सितारवादक प्रतीक चौधरी ( Prateek Choudhary )का भी निधन हो गया। खास बात यह है कि एक हफ्ते पहले ही उनके पिता देवब्रत चौधरी ने भी कोरोना संक्रमण के चलते दुनिया को अलविदा कह दिया था।

पिता के निधन के एक हफ्ते में ही प्रतीक चौधरी भी कोरोना से जंग हार गए और उनका भी निधन हो गया।

यह भी पढ़ेँः पुडुचेरी सीएम के शपथ ग्रहण समारोह में कोरोना का साया, 183 लोगों में से 11 निकले कोविड पॉजिटिव

दिल्ली के तेगबहादुर अस्पताल में थे भर्ती

जाने माने सितारवादक प्रतीक चौधरी को दिल्ली में गुरु तेग बहादुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 49 वर्ष की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली। सितारवादक प्रतीक चौधरी के निधन की खबर आते ही काशी के संगीत प्रेमियों में शोक छा गया।

सेनिया घराना से थे प्रतीक चौधरी

प्रतीक चौधरी संगीत के सेनिया घराना से थे। वह दिल्ली विश्वविद्यालय में संगीत विभाग, संगीत एवं ललित कला संकाय में प्रोफेसर थे। प्रतीक के परिवार में पत्नी रूना और बच्चे रायना और अधिराज हैं।

यह भी पढ़ेँः सावधान! खाने में ज्यादा सोडियम का सेवन बन सकता है जानलेवा, WHO ने दी ये सलाह

पिता के निधन की खबर से टूट गए थे प्रतीक
संगीत इतिहासकार पावज झा ने बताया कि, प्रतीक के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा था। देबू जी के साथ वह भी जीटीबी में भर्ती थे। आखिरी बार जब उनसे मेरी बात हुई थी तब उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिलने वाली थी। लेकिन पिता के निधन की खबर से वह बिल्कुल टूट गये थे।’

आपको बता दें कि जाने माने सितार वादक देवब्रत चौधरी का पिछले सप्ताह शनिवार को कोरोना के चलते ही निधन हुआ। वे देबू चौधरी के नाम से मशहूर थे।

coronavirus
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned