सुप्रीम कोर्ट में अचानक आने लगी सोनिया गांधी की आवाज, कपिल सिब्बल ने तुरंत करवाई बंद

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान अचानक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भाषण सुनाई देने लगा। कांग्रेस अध्यक्ष की आवाज सुनते ही सब हंस पड़े। वह कोविड पर बोल रही थी।

नई दिल्ली। कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई के दौरान बार— बार तकनीकी समस्याएं आई। शीर्ष कोर्ट में सुनवाई के दौरान जज और वरिष्ठ वकील को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। वे बार बार डिस्कनेक्ट हो रहे थे। तब भी अचानक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भाषण सुनाई देने लगा। कांग्रेस अध्यक्ष की आवाज सुनकर सभी लोग हंसने लगे। उस समय कपिल सिब्बल ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को फोन कर कंट्रोल रूम को यह बंद करने के लिए कहा। इसके बाद पी चिदंबरम ने भी आग्रह किया तो तुषार मेहता ने उनको भी अनम्यूट करने के लिए कहा।

यह भी पढ़ें :— दिल्ली में अस्पताल के 80 कर्मचारी कोरोना संक्रमित, वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद भी डॉक्टर की मौत

 

सुप्रीम कोर्ट में सोनिया गांधी की आवाज सुनकर हंसने लगे लोग
दरअसल, सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में कोरोना वैक्सीनेशन पर सुनवाई हो रही थी। सुनवाई शुरू होने से पहले कांग्रेसी नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के स्पीकर को अनम्यूट करते ही उनके बैकग्राउंड से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया के भाषण की आवाज सुनाई देने लगी। वह कोविड पर बोल रही थी। सुप्रीम कोर्ट में अचानक सोनिया गांधी की आवाज सुनकर वहां मौजूद सभी लोग जोर- जोर से हंसने लगे। इसके बाद वरिष्ठ वकील और कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल को कहना पड़ा कि प्लीज इसे बंद कीजिए।

यह भी पढ़ें :— देश का पहला मामला: शेर भी कोरोना की चपेट में, हैदराबाद के चिड़ियाघर में 8 एशियाई शेर पॉजिटिव

वैक्सीन पॉलिसी पर केंद्र ने पेश किया जवाब
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को वैक्सीन पॉलिसी को लेकर दोबारा विचार करने को कहा गया था। जिस पर सरकार ने अपना जवाब पेश किया है। केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि वैक्सीन पॉलिसी न्यायसंगत है। इसके साथ ही कहा कि इसमें उच्चतम न्यायालय के दखल की कोई जरूरत नहीं है। बता दें कि इस सुनवाई से पहले रविवार शाम को केंद्र सरकार ने 218 पेज के हलफनामे पेश कर सभी सवालों के विन्दुवार जवाब दिए हैं। केंद्र सरकार ने अपनी वैक्सीनेशन पॉलिसी का बचाव किया है। केंद्र ने कहा कि बड़े जनहित में ये फैसला कार्यपालिका पर छोड़ दें इसके में किसी भी न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं है।

coronavirus
Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned