धनबाद में जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा एक्शन, DGP से मांगी रिपोर्ट

झारखंड के धनबाद में एडीजे उत्तम आनंद की संदिग्ध मौत मामले में सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान, एक हफ्ते में डीजीपी से मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। झारखंड ( Jharkhand ) के धनबाद में जज की संदिग्ध मौत पर सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) ने बड़ा एक्शन लिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया। मुख्य न्यायाधीश CJI एन वी रमना और जस्टिस सूर्यकांत की बेंच ने झारखंड के मुख्य सचिव और डीजीपी से एक हफ्ते में रिपोर्ट मांगी है।

कोर्ट ने कहा है कि देशभर में न्यायिक अधिकारियों पर हमले की कई घटनाएं हुई हैं। हम उनकी सुरक्षा के व्यापक विषय पर सुनवाई करेंगे। बता दें कि झारखंड हाईकोर्ट धनबाद के न्यायाधीश की कथित हत्या की जांच की निगरानी करता रहेगा।

यह भी पढ़ेंः Jharkhand: गैंगस्टरों की जमानत ठुकराने वाले जज की हत्या का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, CCTV से हुआ चौंकाने वाला खुलासा

धनबाद जिले के अतिरिक्त जिला न्यायाधीश उत्तम आनंद की बुधवार को एक वाहन की चपेट में आने से मौत हो गई। बाद में सीसीटीवी फुटेज में ये खुलासा हुआ कि जिस ऑटो ने जज को टक्कर मारी वो जानबूझ कर की गई थी।

इसके बाद लगातार इस मामले में अपडेट आ रहे हैं। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दो लोगों की गिरफ्तार भी की गई है। ऑटो रिक्शा के चालक लखन वर्मा और उसके सहयोगी राहुल वर्मा समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

ड्राइवर ने कथित तौर पर स्वीकार किया है कि उसने जज को वाहन से टक्कर मारी थी। बता दें कि जिस ऑटो से जज को टक्कर मारी गई उसे घटना के तीन घंटे पहले ही चुराया गया था।

दरअसल जज आनंद सुबह की सैर कर रहे थे, तभी उन्हें ऑटो ने टक्कर मारी थी। इसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। जिस ऑटो से टक्कर मारी गई उसे भी गिरिडीह जिले से बरामद किया गया है।

यह भी पढ़ेंः केरल में चर्च का ऐलान, ज्यादा बच्चे पैदा करने वाले परिवार को दी जाएगी आर्थिक सहायता

हाई प्रोफाइल केसों की सुनवाई कर रहे थे जज
बता दें कि न्यायाधीश अपनी अदालत में हाई प्रोफाइल हत्या के मामलों सहित 15 से अधिक आपराधिक मामलों की सुनवाई कर रहे थे। कुछ गैंगस्टरों की जमानत को भी उन्होंने खारिज कर दिया था।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned