टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती का दावा, कहा- मैंने किया फर्जी वैक्सीनेशन कैंप का भांडाफोड़

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सांसद मिमी चक्रवर्ती सहित बहुत से लोग फर्जी वैक्सीनेशन के झांसे में आ गए। वैक्सीन लगने के बाद जब उन्हें अपने साथ हुई धोखाधड़ी का अनुभव हुआ तब पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई।

नई दिल्ली। देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण तथा संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए इन दिनों केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकारें Covid-19 की रोकथाम के लिए वैक्सीनेशन अभियान चला रही हैं। परन्तु कुछ लोग कोरोना के फ्री इलाज और वैक्सीनेशन की आड़ में फ्रॉड वैक्सीन्स और फर्जी दवाईयां भी दे रहे हैं। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सांसद मिमी चक्रवर्ती सहित बहुत से लोग फर्जी वैक्सीनेशन के झांसे में आ गए। वैक्सीन लगने के बाद जब उन्हें अपने साथ हुई धोखाधड़ी का अनुभव हुआ तब पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई।

यह भी पढ़ें : महाअभियान: प्रधानमंत्री ने लॉन्च किया क्रैश कोर्स, मुफ्त ट्रेनिंग के साथ स्टाइपेंड और दो लाख रुपए का दुर्घटना बीमा भी मिलेगा

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मिमी चक्रवर्ती ने कहा कि उन्हें एक वैक्सीनेशन कैंप के लिए आमंत्रित किया गया था। उन्हें बताया गया कि किन्नरों तथा अन्य दिव्यांग लोगों के लिए कोलकाता म्यूनिसिपल कॉर्पोरेश के ज्वॉइंट कमिश्नर की ओर से नि:शुल्क टीकाकरण कैंप लगाया जा रहा है। मिमी को भी इस कैंप के लिए आमंत्रित किया गया ताकि दूसरे लोग भी वैक्सीन लगवाने के लिए मोटिवेट हो।

यह भी पढ़ें : कोरोना से जंग कैसे जीते भारत, विशेषज्ञों ने दिए 8 सुझाव और कहा- तुरंत अमल में लाएं

मिमी ने बताया कि वह वहां गई और उन्होंने वैक्सीन लगवाई। परन्तु वैक्सीन लगने के बाद भी उनके फोन पर कोई मैसेज नहीं आया तो उन्होंने वैक्सीनेश सर्टिफिकेट के बारे में पूछा, जिस पर आयोजनकर्ताओं ने कहा कि अगले तीन से चार दिन में उन्हें सर्टिफिकेट मिल जाएगा। तब मिमी को संदेह हुआ और उन्होंने तुरंत ही वैक्सीनेशन को रोकने के लिए कहा।

यह भी पढ़ें : भाजपा के आरोप पर कांग्रेस बोली- सोनिया गांधी वैक्सीन ले चुकी हैं, राहुल गांधी भी जल्द लगवाएंगे

मामला पुलिस तक पहुंचा और पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर एक आरोपी देबांजन देब को गिरफ्तार भी कर लिया। वह एक आईएएस अधिकारी तथा ज्वॉइंट कमिश्नर के फर्जी दस्तावेज और स्टाम्प भी उपयोग ले रहा था। पुलिस ने उसके पास से नीली बत्ती लगी कार को भी जब्त कर लिया है। साथ ही आरोपी अधिकारी के पास से फर्जी आईडी कार्ड सहित कई अन्य डॉक्यूमेंट्स बरामद किए गए हैं।

कोलकाता पुलिस ने कहा कि टीकों के सैंपल्स को जांच के लिए भेजा गया है ताकि टीकों के असली या फर्जी होने का पता लगाया जा सकें। इस पूरे केस को कोलकाता पुलिस डिटेक्टिव डिपार्टमेंट को ट्रांसफर कर दिया गया है। वहीं इस मुद्दे पर बोलने हुए तृणमूल कांग्रेस के मंत्री फिरहाद हाकिम ने कहा कि आरोपियों के पास कैंप आयोजन के लिए अनुमति नहीं थी और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned