'कोरोना' को 'एक जीव' बताने पर त्रिवेंद्र रावत के बयान पर हंगामा, लोगों ने कसा तंज, कहा- इसका आधार कार्ड भी होगा

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना वायरस को एक प्राणी बताया है। उन्होंने कहा कि उसे यानी कोरोना वायरस को भी जीने का अधिकार है। वह जीना चाहता है। उनके इस बयान को लेकर देशभर में काफी आलोचना हो रही है।

नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस ने देशभर में तबाही मचा रखी है। कोरोना की दूसरी लहर बेकाबू होती जा रही है जिससे कई राज्यों की स्थिति बहुत ही भयानक बनती जा रही है। इस महामारी को रोकने के लिए केंद्र सरकार के साथ राज्य सरकारें भी हर संभव कोशिश कर रही है। इस समय पूरा देश इस महामारी से जंग लड़ रहा है। इसी बीच उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का एक बयान सामने आया है जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा। उत्तराखंड के पूर्व सीएम ने कोरोना वायरस को एक प्राणी बताया है। उन्होंने कहा कि उसे यानी कोरोना वायरस को भी जीने का अधिकार है। वह जीना चाहता है। उनके इस बयान को लेकर देशभर में काफी आलोचना हो रही है। सोशल मीडिया पर भी लोग उनको लेकर अपनी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे।

अब बस कोरोना का आधार कार्ड बनना बाकी है
पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के इस बयान को लेकर सोशल मीडिया पर उनको ट्रोल जा रहा है। लोगों का कहना है कि इस समय देश कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है और पहाड़ से लेकर मैदान तक हर जगह मातम पसरा हुआ है। ऐसे में रावत का बयान शर्मनाक है। इंडियन यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने त्रिवेंद्र सिंह रावत के इस बयान का वीडियो शेयर किया है। श्रीनिवास ने रावत पर तंज कसते हुए कहा कि फिर तो इसका आधार कार्ड व राशन कार्ड भी होगा। वहीं इंडियन यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष केशव चंद यादव ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का हास्यास्पद बयान। कोरोना वायरस को बताया एक प्राणी। वीडियो में वायरस की जीने की इच्छा पर दिया ज्ञान। रावत जी अब बस कोरोना का आधार कार्ड बनना बाकी है।

यह भी पढ़ें :— 2 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों पर होगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल, भारत बायोटेक को मंजूरी

त्रिवेंद्र सिंह रावत ने क्या कहा था
पूर्व मुख्यमंत्री ने गुरुवार को कहा कि दार्शनिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो कोरोना वायरस भी एक जीवित जीव है। बाकी लोगों की तरह इसे भी जीने का अधिकार है। लेकिन हम (मनुष्य) खुद को सबसे बुद्धिमान समझते हैं। हम उसके पीछे लगे हैं। वह अपना रूप बदल रहा है। वह बहुरुपिया हो गया। इसलिए हमको इस वायरस से दूरी बनाकर चलना पड़ेगा। वो भी चलता रहा, हम भी चल रहे हैं। लेकिन हमारी चाल तेज होनी चाहिए। हम तेजी से आगे बढ़ें, ताकि वह पीछे छूट जाए। हमको उस ओर भी सोचने की जरूरत है, क्योंकि वह भी जीवन है।

24 घंटे 7 हजार से ज्यादा पॉजिटिव
आपको बता दें कि उत्तराखंड में गुरुवार को कोरोना के 7,127 नए मामले सामने आए है। वहीं इससे 122 मरीजों की जान जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी। अब तक प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2,71,810 हो गया है। ताजा मामलों में सर्वाधिक 2094 कोविड मरीज देहरादून जिले में मिले जबकि हरिदवार में 1354, उधमसिंह नगर में 691, नैनीताल में 587, टिहरी गढवाल में 508, पौड़ी में 361, उत्तरकाशी में 317 और रूद्रप्रयाग में 304 नए मरीज सामने आए।

coronavirus
Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned