कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट लेकर आने वाले श्रद्घालु ही कर सकेंगे मां वैष्णो देवी के दर्शन, जारी हुईं गाइडलाइन

  • शनिवार से शुरू हो रहे नवरात्रि उत्सव के दौरान श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने जारी गाइडलाइन
  • श्रद्धालु को कटड़ा आने से पहले कराना होगा कोरोना टेस्ट, टेस्ट रिपोर्ट आने के 48 घंटे के भीतर आना होगा कटड़ा

नई दिल्ली। अगर आप इस कोरोना काल के दौरान माता वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन करना चाहते हैं तो आपको कटड़ा पहुंचने से पहले कोरोना टेस्ट कराना होगा। सिर्फ इतना ही नहीं कोरोना रिपोर्ट आने के बाद 48 घंटों के अंदर आपको कटड़ा पहुंचना होगा। उसके बाद ही आप माता वैष्णो देवी मंदिर में प्रवेश पा सकेंगे। वास्तव में शनिवार से नवरात्र उत्सव शुरू हो रहा है। प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी मंदिर में आने वालों का तांता लगा रहेगा, लेकिन महामारी को देखते श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की ओर विशेष गाइडलाइन ( Vaishno Devi Yatra Guidelines ) जारी की गई हैं। जिन्हें फॉलो करते हुए ही आप मां देवी के दर्शन कर पाएंगे। यह तमाम गाइडलाइन आम लोगों की सुरक्षा और कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जारी की गई हैं। 17 अक्टूबर से नौ दिन चलने वाले नवरात्रि पर्व शुरू हो रहे हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की ओर से किस तरह की गाइडलाइन जारी की गई हैं।

यह भी पढ़ेंः- पीएम मोदी के इस कदम से दीपावली पर चीन को हुआ 40 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

श्राइन बोर्ड की ओर से जारी हुई गाइडलाइन
- श्रद्धालुओं की संख्या को रोजाना पांच हजार से बढ़ाकर सात हजार किया गया है।
- प्रत्येक श्रद्धालु को कटड़ा आने से पहले कोरोना टेस्ट कराना होगा।
- रिपोर्ट आने के 48 घंटे के अंदर ही कटड़ा पहुंचना होगा।
- इस बार जम्मू के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को कोविड-19 निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट लेकर आना जरूरी है।
- कटड़ा में भी कोविड-19 जांच की सुविधा उपलब्ध कराई गई है।

यह भी पढ़ेंः- भारत का चीन को एक और झटका, एयर कंडीशनर के इंपोर्ट पर पाबंदी

इस बार शुरू की विशेष सुविधाएं
- श्रद्धालुओं की संख्‍या को देखते हुए पिट्टू और पालकी सर्विस को भी शुरू करने का फैसला लिया।
- टट्टू, पिट्टू और पालकी सर्विस कटरा और माता के भवन के बीच शुरू होगी।
- टट्टू, पिट्टू और पालकी सर्विस में स्वास्थ्य मंत्रालय के सभी दिशा-निर्देशों का पालन होगा।
- श्रद्धालुओं की सुविधा और आराम के लिए बैटरी से चलने वाले वाहन, रोपवे और हैलीकॉप्‍टर सर्विस भी शुरू की हुई है।
- श्रद्धालुओं को ताराकोट मार्ग और सांझीछत के प्रसाद केंद्र में सामुदायिक भोजनालय शुरू किए गए हैं।
- सड़कों के किनारे और भवन में ढाबे की भी सुविधा को शुरू कर दिया गया है।
- रजिस्ट्रेशन खिड़की पर भीड़ को कंट्रोल और सुरक्षित दूरी के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्टम शुरू किया गया है।

यह भी पढ़ेंः- न्यूयॉर्क से लेकर टोक्यो तक रिलायंस और एलआईसी जैसी कंपनियों का बजेगा डंका, मोदी सरकार उठाने जा रही है यह कदम

किए गए है सभी तरह के प्रबंध
श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के सीईओ रमेश कुमार के अनुसार माता वैष्णो देवी मंदिर नवरात्रि को देखते हुए कोरोना महामारी को लेकर भी खास तैयारियां की गई हैं। ट्रैक और भवन में सैनिटाइजेशन के पुख्ता इंतजाम किए हैं। माता के दरबार को फूलों से सजाया जा रहा है। पिछली बार की तरह इस बार भी देश के प्रसिद्घ भजन गायकों को बुलाया गया है। श्रद्घालुओं की सुरक्षा को देखते हुए सभी तरह के इंतजाम किए गए हैं।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned