scriptWeather Update: देश की राजधानी में हुई झमाझम बारिश, दिल्ली वालों को मिली चिलचिलाती गर्मी से राहत | Weather Update: Heavy rain in Delhi big relief from scorching heat | Patrika News

Weather Update: देश की राजधानी में हुई झमाझम बारिश, दिल्ली वालों को मिली चिलचिलाती गर्मी से राहत

locationनई दिल्लीPublished: Jul 02, 2021 06:49:23 pm

Submitted by:

Dhirendra

पिछले कुछ दिनों की तरह आज भी दिल्ली वाले सुबह से ही तेज धूप और भीषण गर्मी से परेशान थे। गुरुवार को दिल्ली के तापमान ने 90 साल का एक जुलाई का पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया था। लेकिन शुक्रवार दोपहर बाद हुई झमाझम बारिश से देश की राजधानी का मौसम सुहाना हो गया।

delhi raining
नई दिल्ली। देश की राजधानी में शुक्रवार को हुई झमाझम बारिश के बाद पिछले कुछ दिनों ने जारी भीषण गर्मी और और लू की मार से दिल्ली वालों को बड़ी राहत मिली है। शुक्रवार को हुई बारिश से दिल्ली-एनसीआर का मौसम सुहाना हो गया। इससे पहले पिछले कुछ दिनों की तरह लोग सुबह से ही तेज धूप और भीषण गर्मी से परेशान थे। गर्मी की वजह से घर से बाहर केवल वही लोग निकल रहे थे जिनके लिए ऐसा करना बहुत ही जरूरी था। गुरुवार को दिल्ली के तापमान ने एक जुलाई का 90 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया था।
यह भी पढ़ें

UP Weather Updates गर्मी ने तोड़ दिया 12 साल का रिकॉर्ड, जानिए कब होगी बरसात

दरअसल, दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में तापमान 40 के पार जा चुका है। मैदानी इलाकों में तापमान 40 डिग्री से ऊपर पहुंचने पर हीट वेव की स्थिति घोषित कर दी जाती है। आईएमडी ने गर्मी को देखते हुए अलर्ट भी जारी कर दिया था। साथ ही उत्तर भारतीय राज्यों में अगले दो दिनों तक लू के जारी रहने की संभावना जताई थी।
राजस्थान और मध्य प्रदेश में भी लू के थपेड़ों ने लोगों का जीना मुहाल कर रखा है। राजस्थान के तो 17 जिलों में तापमान 40 के पार है। चुरू में पारा 45 डिग्री के करीब पहुंच गया है।
भीषण गर्मी से दिल्ली में बढ़ी रिकॉर्ड बिजली की मांग

उत्तर और पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में भीषण गर्मी के कारण कई राज्यों में बिजली की मांग भी बढ़ गई है। देश में बिजली की मांग रिकॉर्ड 4 हजार 303 मेगा यूनिट तक पहुंच गई है। दिल्ली में गुरुवार को बिजली की सर्वाधिक मांग 7,000 मेगावाट को पार कर गई जो इस मौसम का अब तक का सबसे उच्च स्तर है। दिल्ली में बिजली की मांग पिछले साल के रिकॉर्ड 6,314 मेगावाट को पार कर चुकी है।
loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो