कोरोना वायरस से कब सुरक्षा दिलाएगी वैक्सीन, क्या दावा कर रहे विशेषज्ञ

कई राज्यों में लॉकडाउन को प्रभावी कर दिया गया है, इसके बाद भी कोरोना संक्रमण के नए मामलों में कमी नहीं आ रही है। कोरोना के नए प्रारूप यानी डबल और ट्रिपल म्यूटेंट ने विशेषज्ञों को भी हैरान कर रखा है।

 

नई दिल्ली।

देश में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की दूसरी लहर का कहर जारी है और यह फिलहाल थमता दिखाई नहीं दे रहा। वहीं, विशेषज्ञों का भी कहना है कि दूसरी लहर का पीक मई के दूसरे हफ्ते में 11 के आसपास आ सकता है। हालांकि, कई राज्यों में लॉकडाउन को प्रभावी कर दिया गया है, इसके बाद भी कोरोना संक्रमण के नए मामलों में कमी नहीं आ रही है। कोरोना के नए प्रारूप यानी डबल और ट्रिपल म्यूटेंट ने विशेषज्ञों को भी हैरान कर रखा है।

कुछ वैज्ञानिक यह दावा जरूर कर रहे हें कि दोनों म्यूटेंट एक जैसे ही हैं और मौजूदा दोनों टीके इन पर प्रभावी हैं। विशेषज्ञ और सरकार इसीलिए लोगों को वैक्सीन लगवाने पर लगातार जोर दे रहे हैं, मगर सवाल यह भी उठ रहे हैं कि वैक्सीन कब तक कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाए रख सकेगी।

वैक्सीन से सुरक्षा कब तक
कोरोना संक्रमण से यह वैक्सीन कब तक सुरक्षित रख सकेगी, इसको लेकर विशेषज्ञ अभी किसी तरह का दावा करने की स्थिति में नहीं हैं। विशेषज्ञ अब भी उन लोगों पर अध्ययन कर रहे हैं, जिन्होंने वैक्सीन लगवा ली है। अपने अध्ययन में विशेषज्ञ यह समझने की कोशिश में जुटे हैं कि वैक्सीन की सुरक्षा कितनी कारगर है। इसके अलावा वे इस बात की पड़ताल भी कर रहे हैं कि नए प्रारूप यानी कोरोना के नए वैरिएंट के खिलाफ मौजूदा वैक्सीन कितनी कारगर है और क्या इसके लिए पुराने वैरिएंट के हिसाब से डोज दिए जाने चाहिए या नए वैरिएंट्स के लिए अतिरिक्त डोज दिए जाने की भी जरूरत है।

यह भी पढ़ें:- दावा: कोरोना वायरस का दोहरा और तिहरा स्वरूप एक जैसा, दोनों टीके भी उन पर प्रभावी

कई वैक्सीन छह महीने तक कारगर
भारत में मौजूद दोनों वैरिएंट पर भारत के अलावा कई और देशों वैज्ञानिक भी शोध कर रहे हैं। इनमें से एक वाशिंगटन यूनिवर्सिटी में वैक्सीन रिसर्च टीम में शामिल डेबोरा फुलर के मुताबिक, उनके पास तभी जानकारी होती है, जब वैक्सीन पर स्टडी होती है। फुलर ने कहा, हमें वैक्सीन लगाए जा चुके लोगों का अध्ययन करना होता है। उसके साथ यह देखना होता है कि किस बिंदु पर लोग वायरस के प्रति फिर से कमजोर हो जाते हैं। बता दें कि अभी तक फाइजर के चल रहे ट्रायल के अनुसार कंपनी के दो डोज वाली वैक्सीन कम से कम छह महीने के लिए बहुत कारगर रहती है। यही नहीं विशेषज्ञों का मानना है कि छह इसके डोज छह महीने के बाद भी लंबे समय तक कारगर रह सकते हैं। वहीं, मॉडर्ना कंपनी की वैक्सीन लगवाने वाले लोगों को में भी दूसरे डोज के बाद वायरस से लडऩे के एंटीबॉडी के लेवल पर छह महीने तक कारगर रहते हैं।

यह भी पढ़ें:- प्रोनिंग के जरिए कोरोना संक्रमित मरीजों में बढ़ाया जा सकता है ऑक्सीजन का लेवल, जानिए क्या है पूरी प्रक्रिया

एंटीबॉडी का रोल क्या
हालांकि, एंटीबॉडी से सारी बात पता नहीं लग पाती। बाहरी वायरस से लडऩे के लिए प्रतिरोधक तंत्र के पास कितनी सुरक्षा की दूसरी दीवार भी होती है, जिसे बीआरटी कोशिकाएं कहते हैं। इनमें से कुछ कोशिकाएं तब भी रहती हैं, जब एंटीबॉडी का स्तर कम होता है। यदि भविष्य में वही वायरस फिर से आता है, तो ये कोशिकाएं फिर से और तेजी से सक्रिय होती हैं। बहरहाल, यदि टी या बी कोशिकाएं बीमारी को नहीं रोक पाती हैं, तो वे उसकी गंभीरता को कम कर देती हैं, मगर ये कोशिकाएं कोरोना वायरस के मामले में ऐसी भूमिका कब तक और कैसे निभाती हैं, यह अभी तक स्पष्ट नहीं है।

COVID-19 virus
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned