scriptCorona Vaccine may be ineffective in a year by COVID-19 mutation | एक साल में कोरोना वैक्सीन हो सकती है बेअसर, वैज्ञानिकों ने बताई बड़ी वजह | Patrika News

एक साल में कोरोना वैक्सीन हो सकती है बेअसर, वैज्ञानिकों ने बताई बड़ी वजह

कोरोना वायरस महामारी के बीच लोगों को लगाई जा रही कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर आई है। वैज्ञानिकों का मानना है कि कोरोना का म्यूटेशन एक साल के भीतर वैक्सीन का असर खत्म कर सकता है।

 

नई दिल्ली

Updated: April 01, 2021 01:05:15 am

न्यूयॉर्क। कोरोना वैक्सीन पाने को लेकर दुनिया भर में अभी भी उत्सुकता का माहौल बना हुआ है, लेकिन एक नई रिपोर्ट इन्हें निराश कर सकती है। दरअसल म्यूटेशन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस द्वारा 28 देशों के 77 महामारी विज्ञानियों, वायरोलॉजिस्ट और संक्रामक रोग विशेषज्ञों में से दो-तिहाई ने कहा है कि कोरोना वायरस वैक्सीन एक वर्ष या इससे भी कम वक्त में बेअसर हो सकती है। मंगलवार को प्रकाशित सर्वे के नतीजे दुनिया को इसके जोखिम की चेतावनी देते हैं। इसके साथ ही यह बात भी सामने लाते हैं कि यह सभी देशों को कोविड-19 से लोगों को बचाने के लिए पर्याप्त टीके क्या वाकई मौजूद हैं।
Corona Vaccine may be ineffective in a year by COVID-19 mutation
Corona Vaccine may be ineffective in a year by COVID-19 mutation
जरूर पढ़ेंः 2015 में दी थी कोरोना महामारी की चेतावनी और अब बिल गेट्स ने की दो भविष्यवाणी

सर्वेक्षण में शामिल प्रतिभागियों में से करीब एक तिहाई ने कोरोना वैक्सीन के बेअसर होने के लिए नौ महीने या इससे भी कम समयसीमा दी। आठ में से एक ने कहा कि वे मानते हैं कि कोरोना वायरस का म्यूटेशन मौजूदा वैक्सीन को अप्रभावी नहीं करेगा। वहीं, 88 प्रतिशत यानी भारी बहुमत ने कहा कि कई देशों में लगातार कम वैक्सीन कवरेज से वैक्सीन रेजिस्टेंट म्यूटेशन दिखाई देने की संभावना ज्यादा होगी।
अफ्रीकी गठबंधन, ऑक्सफैम और यूएनएड्स समेत 50 से अधिक संगठनों के गठबंधन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस ने चेतावनी दी है कि वर्तमान दर पर यह संभावना थी कि गरीब देशों के बहुमत में केवल 10 फीसदी लोगों को अगले वर्ष में टीका लगाया जाएगा।
सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से करीब तीन-चौथाई ने कहा कि टेक्नोलॉजी और बौद्धिक संपदा का खुला साझाकरण वैश्विक वैक्सीन कवरेज बढ़ा सकता है। इनमें जॉन हॉपकिन्स, येल, इंपीरियल कॉलेज, लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी, एडिनबर्ग विश्वविद्यालय और केप टाउन विश्वविद्यालय समेत महामारीविद्, विषाणुविज्ञानी और संक्रामक रोग विशेषज्ञ शामिल थे।
जरूर पढ़ेंः यहां हो रही स्वस्थ लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित करने की तैयारी, WHO ने कही बड़ी बात

एक बयान में ब्रिटेन में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में ग्लोबल पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर देवी श्रीधर ने ने कहा, "जितना अधिक वायरस फैलता है, उतनी अधिक संभावना है कि म्यूटेशन और परिवर्तन पैदा होंगे, जो हमारे वर्तमान टीकों को अप्रभावी बना सकते हैं। इसी समय, गरीब देशों को बिना वैक्सीन और ऑक्सीजन जैसे बुनियादी चिकित्सा आपूर्ति के बिना पीछे छोड़ दिया जा रहा है।"
उन्होंने कहा, "जैसा कि हमने सीखा है, वायरस सीमाओं के बारे में परवाह नहीं करते हैं, हमें दुनिया में हर जगह जितनी जल्दी हो सके उतने लोगों को टीकाकरण करना है। इसके आगे बढ़ने के बजाय इंतजार क्यों करें?"
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.