पकड़ा गया ट्रंप का झूठ, किम से मिलने के लिए लिखा था पत्र

  • DMZ: जापान के जी-20 सम्मेलन में ट्रंप ने अचानक कर ली थी तैयारी
  • ट्वीट कर तानाशाह से मिलने की जताई थी इच्छा

वाशिंगटन। हाल ही में अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग से असैन्य क्षेत्र में मुलाकात की थी। दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया के बीच दोनों नेता बड़ी गर्मजोशी से मिले। इस मुलाकात की रूपरेखा मीडिया में इस तरह से प्रस्तुत की गई जैसे मानो यह अचानक सबकुछ तय हुआ हो।

बताया गया कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ने जापान में जी-20 सम्मेलन में ही इस बैठक की तैयारी कर ली थी। उन्हें अचानक से उत्तर कोरियाई नेता से मिलने का ख्याल आ गया। मगर ऐसा बिल्कुल नहीं था। ट्रंप ने पूरे योजनाबद्ध तरीके से इस मुलाकात की रूपरेखा तैयार की थी।

पर्यटकों को लुभाने के लिए यूएई सरकार की नई पहल, मुफ्त सिम कार्ड से फ्री इंटरनेशनल कॉल की दी सुविधा

 

trump

जापानी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ट्रंप ने एक माह पहले ही इस बैठक की तैयारी कर ली थी। इसके लिए उन्होंने बकायदा एक पत्र भी लिखा था। ट्रंप ने उत्तर कोरियाई नेता को लिखे पत्र में डीएमजेड बैठक का सुझाव दिया, जिसे जून में प्योंगयांग भेजा गया था।

कैलिफोर्निया: 7.1 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप, कई मकानों में आईं दरारें

रिपोर्ट के अनुसार, बैठक में आगे बढ़ने के लिए उत्तर कोरियाई पक्ष ने सहमति व्यक्त की थी। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा हुकाबी सैंडर्स ने उस महीने एक बयान में पुष्टि की कि राष्ट्रपति द्वारा एक पत्र भेजा गया था। उस दौरान किम ने पत्र की तारीफ थी। उसने इसे "उत्कृष्ट सामग्री" बताई थी। दरअसल इसी पत्र में मिलने की योजना तय की गई थी।

जी-20 सम्मेलन के दौरान ट्रंप ने नाटकीय ढंग से एक ट्वीट कर किम जोंग से मुलाकात की योजना तैयार की थी। इसके लिए सीमा पार करने की अपनी इच्छा बताई थी। इसके कुछ घंटों बाद ही उत्तर कोरिया के राजनयिक चोई सोन हुई ने ट्रंप के ट्वीट को "एक बहुत ही दिलचस्प सुझाव" कहा। ट्रंप इस तरह से दुनिया में अपनी अहमियत को दर्शाना चाहते थे।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned