Donald Trump का बड़बोलापन, "America मे कोरोना के सबसे अधिक मरीज होने से सम्मानित महसूस करता हूं"

Highlights

  • America में सबसे अधिक Coronavirus के मामले हैं, यहां करीब 15 लाख से अधिक केस हैं।
  • कोरोना से मौंत के मामले में भी America सबसे आगे है, यहां पर 93 हजार से अधिक लोगों ने जान गंवाई है।

वाशिंगटन। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के एक और बयान ने सबको चौंका दिया है। वाइट हाउस (White House) में एक प्रेस वार्ता के दौरान मंगलवार को उन्होंने कहा कि वे गौरांवित महसूस करते है कि देश में सबसे अधिक कोविड-19 (Covid-19) के मामले सामने आए हैं। उन्होंने कहा, "मैं इसे एक निश्चित सम्मान के रूप में देखता हूं, एक अच्छी बात है क्योंकि इसका मतलब है कि हमारा परीक्षण काफी बेहतर है।" जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, अमरीका में 1,570,583 कोरोन वायरस के मामले हैं। वहीं लगभग 93 हजार से अधिक मौतें हो चुकी हैं। यहां पर मौत के आंकड़े थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।

ट्रंप ने क्या कहा

ट्रंप ने कहा, "आप अकसर कहते हैं कि हम मामलों में आगे बढ़ रहे हैं, ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे पास अन्य की तुलना में अधिक परीक्षण हैं।" "इसलिए, जब ये कहा जाता है कि हमारे पास बहुत सारे मामले हैं, तो मैं इसे एक बुरी चीज के रूप में नहीं देखता, मैं इसे एक निश्चित सम्मान के रूप में देखता हूं, क्योंकि यह एक अच्छी बात है क्योंकि इसका मतलब है कि हमारा परीक्षण ज्यादा है बेहतर है। "उन्होंने कहा कि मैं इसे सम्मान के बैज के रूप में देखता हूं। वास्तव में, यह सम्मान का बिल्ला है। यह परीक्षण और उन सभी कामों के लिए एक महान श्रद्धांजलि है जो बहुत सारे पेशेवरों ने किया है।"

Donald Trump ने WHO को 30 दिनों का दिया वक्त, कहा- संस्था जल्द अपनी नीतियों में लाए सुधार

इससे पहले एक और बयान में ट्रंप ने मलेरिया की दवा हाइड्रोक्लोक्वीन को लेकर कहा था कि वे इसका रोज सेवन करते हैं। उन्होंने कहा है कि कोरोना से बचने के लिए वे इस दवा को सबसे बेहतर मानते हैं। हालांकि इस दवा के परिणामों को लेकर अमरीकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (FDA) आशांकित है। उसका कहना है कि वह इस दवा के परिणामों के बारे में नहीं जानता है। इसके साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं।

बीते दिनों कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को लेकर ट्रंप ने चीन पर जमकर गुस्सा निकाला है। उनका कहना है कि चीन ही इस वायरस की जड़ है। इसके साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को भी इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि चीन और WHO ने मिलकर इस वायरस को फैलाने का काम किया है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned