राहत: संक्रमित मरीजों का ग्राफ गिरा रेड से ऑरेंज जोन में पहुंचा मुरादाबाद, अधिकारी बोले अभी नहीं देंगे ढील

Highlights
-लगातार संक्रमित मरीज मिलने के कारण रेड जोन में था जिला
-अब मानकों के मुताबिक जनपद ऑरेंज जोन में आया
-अधिकारी अभी ढील देने के मूड में नहीं
-पहले होगी एक सप्ताह से अधिक तक समीक्षा

By: jai prakash

Published: 21 May 2020, 06:14 PM IST

मुरादाबाद: जनपद में बीते कुछ दिनों में कोरोना संक्रमित केसों में गिरावट आने के साथ ही मरीज तेजी से सुधर रहे हैं। जिसके चलते जनपद अब मानकों के मुताबिक रेड जोन से ऑरेंज जोन में आ गया है। लेकिन डीएम राकेश कुमार सिंह ने फ़िलहाल अगले कुछ दिन ढील देने से इनकार किया है। उन्होंने बताया पहले अभी समीक्षा की जाएगी उसके बाद आगे निर्णय लिया जाएगा।

लॉक डाउन में ऑन लाइन पढ़ाई के साइड इफेक्ट: ग्रुप से नंबर निकालकर लड़कियों काे मैसेज भेज रहे लड़के
रेड जोन से हटा मुरादाबाद
यहां बता दें कि गृह मंत्रालय से कोरोना केसों के ट्रेंड व संख्या के आधार पर जोन वर्गीकरण का अधिकार मिल जाने के बाद शासन ने बुधवार रात नए सिर से जोन वर्गीकरण किया है। इसमें प्रदेश में अब मेरठ, आगरा, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर और कानपुर नगर ही रेड जोन में रह गए हैं। मुरादाबाद को रेड जोन सूची से हटाकर अब ऑरेंज जोन में शामिल कर दिया गया है। जो पांच जनपद रेड जोन में बचे हैं उनमें भी सिर्फ नगरीय क्षेत्र ही रेड जोन में कहलाएंगे।

Lockdown के बीच घर में घुसे चार युवक, सोती हुई युवती से किया रेप का प्रयास

ये हैं मानक
रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन तय करने के लिए जो मानक तय किए गए हैं उनमें मुख्य तौर पर छह पहलुओं पर गौर किया जाना है। इसमें संबंधित जिले में कुल एक्टिव केस, प्रति लाख जनसंख्या के हिसाब से एक्टिव केसों की संख्या, सात में दिन में केसों के डबल होने के आंकड़े, केस फैटेलिटी रेट, टेस्टिंग अनुपात (प्रति लाख आबादी पर कितने टेस्ट हुए) और सैंपलों का पॉजिटिव पाए जाने का रेट शामिल है। जिन जिलों में एक्टिव केस 200 से ज्यादा हैं। एक्टिव केस प्रति लाख 15 से अधिक हैं। कोरोना केस का डबलिंग रेट 14 दिन से कम है। केस फैटेलिटी रेट छह प्रतिशत से अधिक है। टेस्टिंग अनुपात प्रति लाख जनसंख्या 65 से कम है और सैंपल पॉजिटिविटी रेट छह प्रतिशत से अधिक है। ऐसे जिलों को रेड जोन में रखा जाएगा। ग्रीन जोन में शामिल होने के लिए जरूरी है कि पिछले 21 दिनों में उस जनपद में कोई भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं आया हो। डबलिंग रेट 28 दिन से ज्यादा हो। केस फैटेलिटी रेट एक फीसदी से कम हो। टेस्टिंग रेट प्रति लाख आबादी 200 से ज्यादा हो और सैंपल पॉजिटिविटी रेट दो प्रतिशत से कम होना चाहिए। नए मानकों के आधार पर मुरादाबाद को रेड जोन से बाहर कर दिया गया है। शासन ने कहा है कि जो जिले रेड जोन या ग्रीन जोन में नहीं हैं वह स्वत: ऑरेंज जोन में कहलाएंगे।

Show More
jai prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned