script कुवैत से चोरी संदिग्ध बोट 10 दिन में मुंबई के करीब पहुंची, नेवी और कोस्ट गार्ड को नहीं लगी भनक! | Suspicious boat found in Mumbai Arabian Sea which stolen from Kuwait | Patrika News

कुवैत से चोरी संदिग्ध बोट 10 दिन में मुंबई के करीब पहुंची, नेवी और कोस्ट गार्ड को नहीं लगी भनक!

locationमुंबईPublished: Feb 07, 2024 12:58:02 pm

Submitted by:

Dinesh Dubey

Mumbai Kuwait Boat: बोट पर पकड़े गए तीनों युवकों ने खुद को भारतीय होने का दावा किया है।

mumbai_boat.jpg
मुंबई के पास मिली संदिग्ध बोट
Mumbai News: मुंबई के करीब अरब सागर में मंगलवार को एक संदिग्ध बोट मिलने से हड़कंप मच गया। मुंबई पुलिस ने बताया कि बोट को जब्त कर लिया गया है। बोट का नाम 'अब्दुल्ला शराफत' है। उसमें सवार तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। आरोपियों ने बताया कि वे बोट को कुवैत से लेकर आये है।
अधिकारियों ने बताया कि 'अब्दुल्ला शराफत' बोट पर पकड़े गए तीनों युवकों ने खुद को भारतीय होने का दावा किया है। बताया जा रहा है कि तीनों तमिलनाडु के कन्याकुमारी के निवासी है। उनके पास से कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला है। मामला दर्ज कर लिया गया है और आगे की जांच जारी है।
यह भी पढ़ें

Maharashtra: रायगढ़ तट के पास मिली संदिग्ध बोट, नौसेना और तटरक्षक बल ले रही तलाशी


जीपीएस से खोजा रास्ता

येलो गेट पुलिस स्टेशन की गश्ती बोट चैत्राली (Chaitrali) के सुरक्षाकर्मियों ने मंगलवार सुबह अरब सागर में कुवैती बोट को देखा था। तटीय पुलिस को जब बोट संदिग्ध लगी तो उसे गेटवे ऑफ इंडिया से लगभग चार समुद्री मील दूर प्रोंग्स लाइटहाउस पर रोका गया। जांच के बाद आगे की कार्रवाई के लिए बोट को कोलाबा पुलिस स्टेशन को सौंपा गया है।

10 दिन में मुंबई के करीब पहुंचे

पोर्ट ज़ोन के डीसीपी संजय लाटकर ने बताया कि बोट पर पकड़े गए आरोपियों ने दावा किया है कि वे कन्याकुमारी के रहने वाले है और कुवैत में एक कंपनी के लिए काम करते थे। आरोपियों का दावा है कि उन्हें कंपनी पिछले दो साल से सैलरी नहीं दे रही थी और न ही अच्छे से खाने के लिए कुछ देती थी, उनके पासपोर्ट भी कंपनी के पास ही है। इसलिए उन्होंने बोट चुराकर भागने का फैसला किया। उन्होंने जीपीएस डिवाइस की मदद से मुंबई तक का रास्ता खोजा। उन्हें मुंबई तट के करीब पहुंचने में दस दिन लगे।
वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आरोपियों ने दावा किया कि मुंबई आते समय समुद्र में उनकी दो बार जांच भी की गई। तीनों अभी कोलाबा पुलिस की हिरासत में है। उनकी पहचान 31 वर्षीय नित्सो डिट्टो, 32 वर्षीय जे सैयांथा अनीश और 32 वर्षीय एनफैंट विजय विनय एंथोनी के तौर पर की गई है। पुलिस ने कहा कि वे पेशेवर मछुआरे है और 28 जनवरी को कुवैत से निकले थे।

संदिग्ध नहीं दे पा रहे पुलिस को जवाब

कोलाबा पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ''हम उनसे पूछताछ कर रहे हैं। लेकिन वे हमें सही से जवाब नहीं दे पा रहे है, क्योंकि वे न तो अंग्रेजी और न ही हिंदी ठीक से जानते हैं। लेकिन जांच में वे पीड़ित मालूम हो रहे हैं, जो जबरन कुवैती कंपनी द्वारा काम करवाए जा रहे थे। हालांकि उन्होंने देश में अवैध तरीके से घुसपैठ की है, इसलिए हम उनके खिलाफ कार्रवाई करने पर अभी विचार कर रहे है।''

कुवैत से चुराया, फिर समुद्र के रास्ते भारत में घुसे! मुंबई के पास पकड़ी गई संदिग्ध बोट-
mumbai_kuwait_boat.jpg
इतनी बड़ी सुरक्षा चूक कैसे?

इस घटना से मुंबई की समुद्री सुरक्षा के चाक-चौबंद होने के दावे पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। 30 मीटर लंबी कुवैती बोट बिना रोकटोक के 10 दिन से मुंबई की ओर बढ़ती चली गयी। लेकिन नौसेना और तटरक्षक बल को इसकी भनक तक नहीं लगी। यह एक बड़ी सुरक्षा चूक मानी जा रही है। वो भी तब जब 26/11 आतंकी हमले के हमलावर नाव के जरिए पाकिस्तान से मुंबई पहुंचे थे।
नौसेना के सूत्रों ने दावा किया कि उन्होंने पहले जहाज को प्रोंग्स लाइटहाउस में रोका था और फिर पुलिस को सतर्क किया। हालांकि, मुंबई पुलिस ने कहा कि सबसे पहले उनके गश्ती बोट ने कुवैती बोट को देखा और रोका, फिर नौसेना को जानकारी दी।
बता दें कि पिछले साल भी खराब मौसम के कारण एक क्षतिग्रस्त छोटी जहाज महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के पास मिली थी। उसमें हथियार भी बरामद हुए थे।

ट्रेंडिंग वीडियो