गिरती इकोनॉमी के बीच फायदे का सौदा है सोने में निवेश, तीन महीने में 20 फीसदी का रिटर्न

  • तीन महीने में सोने में निवेश पर देखने को मिला 20 से 25 फीसदी तक का रिटर्न
  • आने वाले चार सालों में गोल्ड में देखने को मिल सकता है 30 से 35 फीसदी का मुनाफा
  • सरकार द्वारा जारी होने वाला सॉवरेन बांड निवेश के लिए हो सकता है बेहतर विकल्प
  • इक्विटी मार्केट में लगातार गिरावट की वजह से मेटल में देखने को मिल रही है तेजी

By: Saurabh Sharma

Updated: 19 Apr 2020, 08:22 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया इकोनॉमी लाल निशान पर जाती हुई दिखाई दे रही है। दुनिया की तमाम छोटी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के इक्विटी बाजार धराशायी हो चुके हैं। जिसकी वजह से निवेशकों का झुकाव सोने की ओर देखने को मिल रहा है। न्यूयॉक और लंदन के बाजारों में सोना 8 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच चुका है। वहीं बात भारत की बात करें तो यहां भी सोने की कीमतों का स्तर 47 हजारी हो चुका है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि जल्द सोना 50 हजार के करीब पहुंच जाए। जानकारों की मानें तो जनवरी से अब तक सोने की कीमतों में 20 से 25 फीसदी का रिटर्न देखने को मिल चुका है। ऐसे में निवेशकों के जरूरी हो गया है कि अपने पोर्टफोलियो में गोल्ड इंवेस्टमेंट की हिस्सेदारी को बढ़ा दें। क्योंकि आने वाले पांच सालों में यह रिटर्न 35 फीसदी तक का देखने को मिल सकता है।

यह भी पढ़ेंः- एसएंडपी ने चलाई भारत की GDP के अनुमान पर कैंची, 1.8 फीसदी विकास दर रहने के आसार

आखिर क्यों देखने को मिल रही है तेजी
सोने में तेजी का अहम कारण है इक्विटी मार्केट का धराशायी होगा और इकोनॉमी में लगातार गिरावट देखने को मिलना। केडिया एडवाइजरी के डायरेक्टर अजय केडिया के अनुसार जब भी इक्विटी मार्केट में गिरावट देखने को मिलती है तब-तब कीमती धातुओं खासकर गोल्ड की कीमतों में तेजी देखने को मिलती है। उन्होंने कहा कि गिरती इकोनॉमी में भी गोल्ड की ओर इंवेस्टर्स का झुकाव देखने को मिलता है। वर्ष 2000 और वर्ष 2013 में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला था। यही मुख्य वजह है इंटरनेशनल और नेशनल मार्केट में सोने की कीमतों में तेजी देखने को मिल रही है।

यह भी पढ़ेंः- आरबीआई की डिविडेंड पर रोक से होगा निवेशकों के मुनाफे पर असर

सरकार लेकर आ रही है सॉवरेन बांड
वहीं रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की किस्तों की तारीखों का ऐलान कर है। सरकार पहला बॉन्ड 20 अप्रैल को जारी करेगी। ऑनलाइन खरीद पर इंवेस्टर्स को प्रति ग्राम 50 रुपए की छूट मिलेगी। मोदी सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की शुरूआत 2015 में की थी। जिसके तहत निवेशक फिजिकल गोल्ड की जगह बैंक या पोस्ट ऑफिस से सोने के बॉन्ड पेपर खरीदते हैं। इस स्कीम के तहत ग्राहकों को ब्याज के साथ-साथ उत्पाद पर सुरक्षा भी मिलती है।

यह भी पढ़ेंः- करोड़ों लोगों के लिए मसीहा बना बना डाक विभाग, इस तरह बचा रहा है जिंदगी

सॉवरेन बांड हैं कई फायदे
यूपी चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष रविप्रकाश अग्रवाल के अनुसार सॉवरेन बांड पर निवेशकों को 2.5 फीसदी का ब्याज मिलता है और प्रत्येक 6 महीने में इंवेस्टर्स को दिया जाता है। इस निवेश स्कीम में एक साल साल में कम से कम 1 ग्राम और अधिकतम 4 किलोग्राम सोने में निवेश किया जा सकता है। इस स्कीम की मैच्योरिटी लिमिट 8 साल की है। वैसे पांच साल बाद भी मैच्योरिटी के लिए आवेदन किया जा सकता है। आरबीआई ने 6 सीरिज में बॉन्ड पेपर बेचने का प्यान बनाया है। पहली सीरीज 20 से 24 अप्रैल तक और छठी सीरीज 31 अगस्त से 4 सितंबर तक चलेगी।

यह भी पढ़ेंः- सालाना 27 हजार रुपए के प्रीमियम के आपके जीवन में आनंद भर देगी एलआईसी की पॉलिसी

आम निवेशकों को क्या करना चाहिए?
एजेंल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट ( रिसर्च एंड कमोडिटी ) अनुज गुप्ता का कहना है कि मौजूदा समय में गोल्ड की कीमतों में काफी तेजी देखने को मिल रही है। खासकर इंवेस्टमेंट के लिहाज से गोल्ड में निवेश का यह समय काफी अनुकूल है। आने वाले दिनों में बेहतर रिटर्न देखने को मिल सकते हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग रेगुलर इंवेस्टर नहीं है तो वो सॉवरेन गोल्ड बांड की ओर जा सकते हैं। सरकारी स्कीम में इंवेस्टर का निवेश ज्यादा सुरक्षित हैै। ओपेन मार्केट में गोल्ड की कीमतों में मौजूदा समय में तो तेजी देखने को मिल रही है, लेकिन दुनिया के किसी केंद्रीय बैंक की ओर से कुछ पॉलिसी का ऐलान किसा और सोना नीचे गिर गया तो हल्का नुकसान भी देखने को मिल सकता है। जैसा शुक्रवार को देखने को मिला। वायदा बाजारों में सोना 1500 रुपए प्रति दस ग्राम लुढ़का था।

यह भी पढ़ेंः- पूरे देश का पेट भरने में जुटी हैं रेलवे की 'स्पेशल 25' अन्नापूर्णा ट्रेन

वे कहां और कितना निवेश करें?
सोने में निवेश पर अजस केडिया का कुछ अलग ही विचार है। उन्होंने कहा कि नॉर्मल डेज में किसी भी इंवेस्टर्स के पोर्टफोलियो में 5 फीसदी हिस्सेदारी गोल्ड में देखने को मिलती है। बाकी हिस्सेदारी उसकी एसआईपी, म्यूचुअल फंड, शेयर बाजार में देखने को मिलती है। मौजूदा समय में शेयर बाजार में गिरावट का दौर देखने को मिल रहा है। ऐसे में अब निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो में 20 से 25 फीसदी तक हिस्सेदारी गोल्ड इंवेस्टमेंट कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा गोल्ड में निवेश में वैसे कई तरीके है। हम गोल्ड में एसआईपी के जरिए भी निवेश कर सकते हैं।

यह भी पढेंः- हाइवे पर 20 अप्रैल से लिया जाएगा TOLL TAX, ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री ने दिये आदेश

भविष्य में सुरक्षा और रिटर्न दोनों की गारंटी
गोल्ड में निवेश आपको सुरक्षा और रिटर्न दोनों की गारंटी देता है। इसके लिए हमें 2000 की मंदी की ओर जाना होगा। अजय केडिया बताते हैं कि 2000 से 2004 के बीच गोल्ड में रिटर्न 25 फीसदी से ज्यादा देखने को मिला था। वहीं 2008 से 2013 के बीच सोने में निवेश पर रिटर्न बढ़कर 35 फीसदी तक पहुंच गया था। चार सालों में इतना रिटर्न कहीं देखने को नहीं मिलता है। अजय केडिया कहते हैं कि आने वाले 2008-13 को ही आधार माने तो सोने पर निवेश में 35 से 40 फीसदी का रिटर्न देखने को मिल सकता है।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned