सरकारी कर्मचारियों को झटका, सरकार ने कम की जीपीएफ पर ब्याज दरें

सरकारी कर्मचारियों को झटका, सरकार ने कम की जीपीएफ पर ब्याज दरें

Saurabh Sharma | Publish: Jul, 17 2019 02:16:25 PM (IST) म्‍युचुअल फंड

केंद्र की Modi Govt ने Govt Employees को झटका देते हुए General Provident Fund के Interest Rate में 10 Basis Points की कमी करते हुए 7.90 फीसदी कर दिया है।

नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi ) की केंद्र सरकार ( Central govt ) ने Govt Employees को बड़ा झटका दिया है। उनकी सरकार ने जनरल प्रोविडेंट फंड ( General Provident Fund ) की ब्याज दरों में कटौती कर दी है। वित्त मंत्रालय ( finance ministry ) की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार सरकारी कर्मचारियों को दिए जाने वाले जनरल प्रोविडेंट फंड पर ब्याज को 8 फीसदी से 7.9 फीसदी कर दिया गया है। मंत्रालय की ओर से जानकारी के अनुसार जीपीएफ ( GPF ) पर 10 बेसिस प्वाइंट्स की कटौती की गई है। नई ब्याज दरें 1 जुलाई से प्रभावी हो चुकी हैं। आपको बता दें कि पिछली तीन तिमाहियों से 8 फीसदी ब्याज मिल रहा था।

यह भी पढ़ेंः- बैंक्रप्सी में फंसी आरकॉम के लिए मुकेश अंबानी लगा सकते हैं बिड

इन विभागों के कर्मचारियों को हुआ नुकसान
वित्त मंत्रालय द्वारा दिए एक बयान के अनुसार यह ब्याज दर केंद्र सरकार के कर्मचारियों, रेलवे, रक्षा बलों की भविष्य निधि, इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्ट्ररीज के कर्मचारियों के भविष्य निधि पर लागू होगी। जीपीएफ के सदस्य केवल सरकारी कमर्चारी होते हैं। सरकारी कर्मचारी अपने वेतन का एक हिस्सा इसमें निवेश करते हैं, जिसका रिटर्न उन्हें रिटायरमेंट के समय प्राप्त होता है।

यह भी पढ़ेंः- IMF Chief क्रिस्टीन लेगार्द ने पद से दिया इस्तीफा, यूरोपीयन सेंट्रल बैंक की बनेगी अध्यक्ष

पीपीएफ पर मिल रहा है 8 फीसदी ब्याज
कोई भी व्यक्ति अपनी मर्जी से जिस संचित निधि में निवेश कर सकता है, उसे पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी पीपीएफ कहा जाता है। पीपीएफ खाता खुलवाने के लिए आपका नौकरीपेशा होना जरूरी नहीं है। यह एक तरह से रिटायरमेंट सेविंग प्लान होता है, जो कि मैच्योरिटी के बाद फायदा देता है। पीपीएफ पर वर्तमान समय में 8 फीसद की दर से ब्याज मिल रहा है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर लगा ब्रेक, डीजल पर राहत जारी

ईपीएफ पर 8.55 फीसदी मिल रहा है ब्याज
वहीं संगठित और असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए संचित निधि की जो व्यवस्था है, उसको इंप्लॉज प्रोविडेंट फंड कहा जाता है। इसमें कंपनी और कर्मचारी दोनों का योगदान होता है। यह वो पैसा होता है, जो कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों की सैलरी से कट कर प्रोविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन में जमा होता है। ईपीएफ खाते में जमा राशि पर 8.55 फीसदी की दर से ब्याज दिया जा रहा है।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned