5 माह पहले 14 वर्षीय लड़की से हुआ था बलात्कार, गर्भवती होने पर खुला राज

Highlights
- मुजफ्फरनगर जिले के तितावी थाना क्षेत्र की घटना
- पीड़िता के पिता की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ दर्ज किया केस
- पुलिस ने आरोपी युवक को किया गिरफ्तार

By: lokesh verma

Published: 08 Dec 2019, 04:29 PM IST

मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में 14 वर्षीय लड़की से बलात्कार का मामला सामने आया है। आरोप है कि लड़की के साथ पांच माह पहले बलात्कार किया गया था। अचानक तबीयत खराब होने पर जब लड़की को लेकर अस्पताल पहुंचे तो उन्हें पता चला कि उनकी बेटी गर्भवती है। घर पहुंचने पर जब लड़की से पूछताछ की गर्इ तो उसने परिजनों को आपबीती सुनाते हुए कहा कि आरोपी युवक ने पांच माह पहले उसके साथ बलात्कार किया था। साथ ही किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी। पीड़िता के पिता की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें- उन्नाव कांड पर पूर्व कांग्रेस विधायक बोले- भाजपा सरकार कर रही बलात्कारियों को बचाने काम, देखें Video

दरअसल, यह घटना मुजफ्फरनगर जिले के तितावी थाना क्षेत्र की है। पीड़िता के पिता ने तहरीर में बताया है कि शनिवार को उनकी 14 वर्षीय बेटी की अचानक तबीयत खराब हो गई थी। वह उसे लेकर अस्पताल पहुंचे तो चिकित्सक ने बताया कि आपकी बेटी चार माह की गर्भवती है। यह सुनते ही उनके पैरों तले जैसे जमीन ही न रही। इसके बाद घर पहुंचकर उन्होंने बेटी से बात की तो उसने बताया कि करीब पांच माह पहले वह खेत पर गई थी। जहां आरोपी युवक ने उसके साथ बलात्कार किया था। साथ ही किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी। इसलिए उसने घटना के बारे में किसी को कुछ नहीं बताया था।

बता दें कि इस मामले में किशोरी के पिता की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार), 506 (आपराधिक धमकी) और यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (पॉक्सो ऐक्ट) अधिनियम के तहत केस दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें- रेप और हत्या के 4 आरोपियों को गोली मारने का नहीं दिख रहा असर, अब 3 वर्ष की बच्ची से रेप का प्रयास

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned