BREAKING- शहीद अंकित तोमर को दी गई अंतिम सलामी, सीएम ने की 50 लाख रुपये देने की घोषणा

चार साल की बेटी और पांच माह का बेटा है अंकित ताेमर का, शहीद के कंधों पर थी घर की सारी जिम्मेदारी

By: sharad asthana

Published: 04 Jan 2018, 09:51 AM IST

शामली। कैराना के गांव जंधेड़ी में एक लाख के इनामी बदमाश साबिर से हुई पुलिस मुठभेड़ में शहीद हुए कांस्टेबल अंकित तोमर को गुरुवार सुबह शामली पुलिस लाइन में गार्ड ऑफ गनर के साथ अंतिम सलामी दी गई। इस दौरान डीआईजी केएस इमैनुअल सहारनपुर भी मौजूद रहे। सैकड़ों पुलिसकर्मियो के साथ ही परिजनों और ग्रामीणों ने भी शहीद को अंतिम विदाई दी। शहीद कांस्‍टेबल का शरीर देर रात ही नोएडा अस्‍पताल से शामली पुलिस लाइन ले जाया गया था। अब पुलिस लाइन से उनके शरीर को बागपत स्थित उनके पैतृक गांव वजीदपुर ले जाया गया है। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद अंकित तोमर की वीरता और साहस की प्रशंसा करते हुए उनके परिजनों को 50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की है। आर्थिक सहायता के रूप में 40 लाख रुपए शहीद की पत्नी व 10 लाख रुपए उनके माता-पिता को दिए जाएंगे।

नोएडा के फोर्टिस अस्‍पताल में उपचार के दौरान हुई मौत

दरअसल, कैराना के गांव जंधेड़ी में एक लाख के इनामी बदमाश साबिर से मुठभेड़ के दौरान लोहा लेने वाले घायल कांस्टेबल अंकित तोमर की उपचार के दौरान नोएडा के फोर्टिस हॉस्पिटल में बुधवार रात लगभग 10 बजे मौत हो गई थी। उनकी मौत से पुलिस महकमे में शोक की लहर दौड़ गई थी। मुठभेड़ में अंकित के सिर में बार्इ आेर गोली लगी थी। वहीं, नोएडा के अस्‍पताल में जब तक अंकित तोमर भर्ती रहे, तब तक पुलिसकर्मियों आैर अधिकारियों का अस्पताल परिसर में जमावड़ा लगा रहा।

शामली अपडेट: मुठभेड़ में 1 लाख के इनामी बदमाश से लोहा लेने वाले कांस्टेबल की इलाज के दौरान मौत

एक बच्ची आैर पांच माह का है बेटा है अंकित का

बड़ौत के वजीदपुर निवासी अंकित भार्इ-बहनों में सबसे बड़े थे। उनके पिता जयपाल ने बताया कि वह गांव में खेती करते हैं। घर की सारी जिम्मेदारी अंकित के कंधों पर ही थी। उससे छोटी एक बहन आैर भार्इ है। 2011 में पुलिस विभाग में भर्ती हुए अंकित तोमर कुछ समय पहले ही बदायूं से ट्रांसफर के बाद शामली के कैराना थाने में एसआे के हमराह में तैनात हुए थे। उनकी शादी 2012 में हुर्इ है। उनके एक चार साल की बेटी आैर पांच माह का बेटा है। दो दिन पहले ही अंकित अपने गांव आए थे। इसके बाद वह अपनी ड्यूटी पर वापस लौट गए।

शामली पुलिस का एक और एनकाउंटर, एक लाख का इनामी साबिर ढेर, सिपाही गंभीर

42 मिनट में मेरठ से फाॅर्टिस अस्पताल में कराया गया था भर्ती

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, शामली में कैराना थानाक्षेत्र में कुख्यात बदमाश की जानकारी मिलने के बाद मंगलवार रात करीब 10 बजे पुलिस ने घेराबंदी की थी। इस दौरान कुख्यात बदमाश साबिर ने फायरिंग शुरू कर दी। इसमें एक गोली अंकित के सिर में लग गई थी। पुलिस मुठभेड़ में एक लाख रुपये के इइनामी बदमाश साबिर का भी एनकाउंटर कर दिया गया था। घायल अवस्था में पुलिस ने अंकित आैर दरोगा को रात करीब 12 बजे मेरठ के आनंद अस्पताल में भर्ती कराया। यहां एक घंटे बाद भी अंकित की हालत में सुधार न होने पर डाॅक्टरों ने उन्‍हें नोएडा के फाेर्टिस अस्पताल में रेफर कर दिया था। इसके बाद पुलिस अधिकारी 42 मिनट में अंकित को मेरठ से लेकर फाॅर्टिस पहुंचे थे।

sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned