scriptBihar Politics CM Nitish Kumar's opportunistic politics | Bihar Politics: नीतीश कुमार की 'अवसरवादी राजनीति' की गूंज कहां तक | Patrika News

Bihar Politics: नीतीश कुमार की 'अवसरवादी राजनीति' की गूंज कहां तक

Bihar Politics: नीतीश कुमार 2013 में बीजेपी से अलग हुए। 2017 में महागठबंधन छोड़ा। अब फिर बीजेपी से किनारा कर लिया है। वे पलटते रहे हैं। नीतीश अवसरवादी हैं, यह तमगा उन पर लग चुका है। उनके इस यू-टर्न के गहरे मायने क्या हैं, इसी पर केंद्रित पत्रिका के गिरिराज शर्मा का यह खास विश्लेषण -

Updated: August 10, 2022 07:00:18 am

#nitishkumar: बिहार की राजनीति टेढ़ी है। लेकिन सीएम नीतीश कुमार के लिए बड़ी 'सीधी'। मोबाइल सिम पोर्ट करने जैसी। जिसका 'नेटवर्क' अच्छा, वही 'ऑपरेटर' चुनो। जब मर्जी, बदल लो। वे सियासी 'गणित' में माहिर हैं। अपना नफा-नुक्सान साधकर चलते हैं। बीजेपी को गच्चा दे ही दिया। यह पहला मौका नहीं है। 2013 में बीजेपी से अलग हुए। 2017 में महागठबंधन छोड़ा। अब फिर बीजेपी से किनारा। वे पलटते रहे हैं। उनकी फितरत है। अपनी सुविधा अनुसार राजनीति करते हैं। यही वजह है, उनका कोई राजनीतिक दोस्त नहीं। तो दुश्मन भी नहीं। बहरहाल, बिहार का यह बदलाव बहुत कुछ बयां कर रहा है। इस 'अवसरवादी राजनीति' के मायने बड़े गहरे हैं। इसे यूं समझें -
CM Nitish Kumar's opportunistic politics
CM Nitish Kumar's opportunistic politics

विपक्ष को हल्की राहत


महाराष्ट्र में हालिया तख्तापलट चौंकाने वाला था। विपक्षी दल सदमें में थे। बिहार में भी ऐसी ही तैयारी थी। विपक्ष का आरोप है, जेडीयू से निष्कासित आरसीपी सिंह जरिया थे। चतुर नीतीश चाल समझ गए। बीजेपी से नाता तोड़ लिया। तख्तापलट टाल दिया। नीतीश का बीजेपी से अलग होना, विपक्ष को 'ऑक्सीजन' मिलने जैसा है।

नितीश की महत्वाकांक्षा


नीतीश को अपना अस्तित्व बिहार में ही दिखता है। जिसे इस यू-टर्न से सुरक्षित कर लिया है। छवि भले खराब हुई है। इससे वो बेपरवाह हैं। विपक्षी दलों के साथ आ जाने से निगाह देश पर है। अब वे खुद को राष्ट्रीय स्तर पर पेश करना चाहेंगे। नरेंद्र मोदी के विकल्प के रूप में। यह उनकी पुरानी हसरत है। जाहिर है, ममता बनर्जी, अरविन्द केजरीवाल, सोनिया/राहुल गांधी के साथ अब एक नाम नीतीश कुमार का भी होगा।

यह भी पढ़ें

नीतीश ने सरकार बनाने का दावा पेश किया

अब बीजेपी खुलकर खेलेगी


बीजेपी अब तक जेडीयू के साथ थी। गठबंधन का तकाजा था। दोनों पार्टियां अपनी सीमाओं में थी। बीजेपी इसे अवसर के रूप में लेगी। अब वो खुद को सबसे बड़ी पार्टी बनाना चाहेगी। बिहार में। लालू राज और भ्रष्टाचार पर हमला करेगी। आक्रामक अभियान चलाएगी। 2024 से पहले एनडीए से एक पार्टी का अलग होना झटका हो सकता है। लेकिन बिहार में सन्दर्भ अलग है। बीजेपी को कोई गम नहीं। उलटे वो इसे 'मुक्ति' के रूप में देख रही है।

कांग्रेस क्षेत्रीय दलों के सहारे


कांग्रेस अब दयनीय अवस्था में है। दो राज्यों तक सीमित है। उसके पास कोई विकल्प नहीं। क्षेत्रीय पार्टियों से गठबंधन के आलावा कोई चारा नहीं।

 

'महागठबंधन' के मन में गांठें


बिहार में जेडीयू-आरजेडी-कांग्रेस साथ आ गए। लेकिन मन में अतीत की कडुवाहटें हैं। एक-दूसरे पर अविश्वास हावी रहेगा। महागठबंधन बन तो गया। लेकिन बुनियाद 'अवसर' की है। ये अभिशप्त रहेगा। नीतीश की छवि से। नीतीश अवसरवादी हैं, यह तमगा उन पर लग चुका है। कब 'पलट' जाएं, कह नहीं सकते।

यह भी पढ़ें

रवि शंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार से पूछा बीजेपी के साथ क्यों आए थे?

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

गृह मंत्रालय ने PFI को 5 साल के लिए किया बैन, टेरर लिंक के आरोप में RIF सहित 8 अन्य संगठनों पर भी एक्शनसड़क हादसे में साइरस मिस्त्री की मौत को लेकर हुआ बड़ा खुलासा! IRF की रिपोर्ट में सामने आईं बड़ी बातेंदिल्ली शराब नीति मामले में हुई पहली गिरफ्तारी, CBI ने मनीष सिसोदिया के सहयोगी को किया अरेस्ट'हम भी बता देंगे उन्होंने क्या किया है और हमने क्या किया," बिहार के पूर्णिया में अमित शाह की रैली पर बोले नीतीश कुमारVideo: दिल्ली में खतरे के निशान से ऊपर बढ़ा यमुना का जलस्तर, लोहे वाले पुल से आवगमन हुआ ठपगुजरात में चुनावी तैयारियों में जुटा चुनाव आयोग, कहा- 4.83 करोड़ वॉटर्स पंजीकृतShinde vs Thackeray: उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका, नहीं रुकेगी चुनाव आयोग की कार्रवाई, संविधान पीठ ने खारिज की याचिकाLegends League Cricket 2022: भीलवाड़ा किंग्स ने गुजरात जाइंट्स को 57 रनों से हराया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.