scriptLok Sabha elections 2024 : चुनाव से पहले एआई पर सख्ती, नए मॉडल के लिए मंजूरी जरूरी | Lok Sabha elections 2019: Strictness on AI before elections, approval necessary for new models | Patrika News

Lok Sabha elections 2024 : चुनाव से पहले एआई पर सख्ती, नए मॉडल के लिए मंजूरी जरूरी

locationनई दिल्लीPublished: Mar 03, 2024 08:50:28 am

Submitted by:

Shaitan Prajapat

Lok Sabha elections 2024 : केंद्रीय आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) से जुड़ी कंपनियों को देश में अपने नए मॉडल लॉन्च करने के लिए सरकार की मंजूरी लेनी होगी।

artificial_intelligence_.jpg

Lok Sabha elections 2024 : लोकसभा चुनाव में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के दुरुपयोग की आशंकाओं को देखते हुए केंद्र सरकार ने जनरेटिव एआई प्लेटफॉर्म को एडवाइजरी जारी कर कहा कि उनके एआई टूल का जवाब ऐसा नहीं होना चाहिए जो भारतीय कानून के अनुसार अवैध हो या जिससे चुनाव की प्रक्रिया को खतरा पैदा होता हो। केंद्रीय आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा है कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) से जुड़ी कंपनियों को देश में अपने नए मॉडल लॉन्च करने के लिए सरकार की मंजूरी लेनी होगी। इस निर्देश का सभी कंपनियों को पालन करना होगा।


एआई मॉडल का जवाब भरोसेमंद नहीं

वर्तमान में कंपनियां भारतीय उपभोक्ताओं को 'अंडर टेस्टिंग/ अनरिलायबल' एआई सिस्टम या भाषा मॉडल की सेवाओं दे रही हैं। अब इसके लिए कंपनियों को सरकार से अनुमति लेनी होगी और उपभोक्ताओं को साफ तौर पर बताना होगा कि संबंधित एआई मॉडल का जवाब भरोसेमंद नहीं है। कंपनी बाद में आकर यह नहीं कह सकती कि ये तो अंडर-टेस्टिंग था।
सरकार ने यह एडवाइजरी गूगल, ओपनएआइ सहित सभी मध्यस्थ प्लेटफॉर्मों को जारी किया है। यह सलाह उन सभी प्लेटफार्मों पर भी लागू है जो उपयोगकर्ताओं को डीपफेक बनाने की अनुमति देते हैं। चन्द्रशेखर ने पुष्टि की कि इसमें एडोब भी शामिल है। कंपनियों को 15 दिनों के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि यह एडवाइजरी लोकसभा चुनाव को देखते हुए जारी की गई है ताकि गलत सूचना देकर चुनाव को प्रभावित नहीं किया जा सके। गौरतलब है कि हाल ही में एआइ के जेमिनी मॉडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक फासीवादी बताया था।

ओपनएआई को कॉपीराइट उल्लंघन का नोटिस दिया

न्ययॉर्क। डिजिटल समाचार कंपनी द इंटरसेप्ट, रॉ स्टोरी और अल्टरनेट ने एआइ चैटजीपीटी की कंपनी ओपनआई के खिलाफ कॉपीराइट उल्लंघन का मुकदमा दर्ज कराया है। इन कंपनियों का कहना है कि उनकी हजारों कहानियों का उपयोग ओपनएआई ने उपयोगकर्ताओं द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब देने के लिए किया था। इस दौरान न तो किसी किसी प्रकार की अनुमति ली गई और न ही उन्हें भुगतान किया गया। इससे साफ है कि इस दौरान कॉपीराइट का उल्लंघन किया गया।

एलन मस्क ने ओपनएआई पर किया मुकदमा

सैन फ्रांसिस्र्को। एलन मस्क ने ओपनएआई और उसके सीईओ सैम ऑल्टमैन के खिलाफ सैन फ्रांसिस्को के एक कोर्ट में मुकदमा दायर किया है। एलन मस्क ने सैम पर समझौते को तोड़ने और विश्वासघात का आरोप लगाया है। मस्क ने कहा कि ओपनएआई ने अपने टूल चैटजीपीटी से माइक्रोसॉफ्ट को अधिक फायदा पहुंचाया है, जबकि इससे इंसानियत को फायदा होना चाहिए। मस्क ने अपनी याचिका में कहा है कि ओपनएआई, अध्यक्ष ग्रेगरी ब्रॉकमैन, सीईओ सैम अल्टमैन और कंपनी में प्रमुख निवेशक माइक्रोसॉफ्ट को इस एआई टूल से होने वाले लाभ कमाने से रोका जाए।

यह भी पढ़ें

MCD Geo Tagging: एमसीडी ने जियो-टैगिंग की फिर बढ़ाई समय सीमा, क्या होता है यह और कैसे कराते हैं अपनी प्रॉपर्टी की टैगिंग

ट्रेंडिंग वीडियो