scriptPandit Birju Maharaj Wife Age Children Family Biography More | Pandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पद्म विभूषण बिरजू महाराज के जीवन से जुडी अहम जानकारियां | Patrika News

Pandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पद्म विभूषण बिरजू महाराज के जीवन से जुडी अहम जानकारियां

मशहूर कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का सोमवार को हार्ट अटैक की वजह से निधन हो गया है। पद्म विभूषण से सम्मानित 83 साल के बिरजू महाराज ने दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली। बिरजू महाराज का जन्म 4 फरवरी, 1938 को लखनऊ में हुआ था। इनका असली नाम पंडित बृजमोहन मिश्र था। ये कथक नर्तक होने के साथ साथ शास्त्रीय गायक भी थे।

नई दिल्ली

Updated: January 17, 2022 10:35:07 am

Pandit Birju Maharaj Biography: मशहूर कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का सोमवार को हार्ट अटैक की वजह से निधन हो गया है। पद्म विभूषण से सम्मानित 83 साल के बिरजू महाराज ने दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली। लखनऊ घराने से ताल्लुक रखने वाले बिरजू महाराज के पोते स्वरांश मिश्रा ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए इस बारे में जानकारी दी। बिरजू महाराज का जन्म 4 फरवरी, 1938 को लखनऊ में हुआ था। इनका असली नाम पंडित बृजमोहन मिश्र था। ये कथक नर्तक होने के साथ साथ शास्त्रीय गायक भी थे। बिरजू महाराज के निधन के बाद सोशल मीडिया पर लोग उनके और परिवार के बारे में सर्च कर रहे है।

Pandit Birju Maharaj
Pandit Birju Maharaj

बिरजू महाराज का पूरा क्या नाम था?
उनका पूरा नाम पंडित बृजमोहन मिश्र है। पहले उनका नाम 'दुखहरण' रखा गया था, जो बाद में बदल कर 'बृजमोहन नाथ मिश्रा' हुआ।

बिरजू महाराज की कितनी संतान थी?
उनके पांच बच्चों का पिता हैं, तीन बेटियां और दो बेटे उनके तीन बच्चे, ममता महाराज, दीपक महाराज और जय किशन।


बिरजू महाराज क्या बजाते थे?
बिरजू महाराज एक शानदार ड्रमर हैं, जो आसानी और सटीकता के साथ लगभग सभी ड्रम बजाते हैं। उन्हें खासतौर पर तबला और नाल बजाने का शौक है। वह सभी तार वाद्य, सितार, सरोद, वायलिन, सारंगी आसानी से बजा सकते हैं, हालांकि उन्होंने कभी भी किसी औपचारिक प्रशिक्षण को नहीं लिया।

यह भी पढ़ें

कथक सम्राट पंडित बिरजू महाराज का निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांस



बिरजू महाराज के माता का क्या नाम था?
उनकी माता का नाम अम्मा जी महाराज था।

बिरजू महाराज की पत्नी का नाम क्या है ?
बिरजू महाराज की पत्नी का नाम संतोषी है।


बिरजू महाराज की शिष्या कौन थी?
उनकी शिष्या शाश्वती, दुर्गा और रश्मी वाजपेयी है।

बिरजू महाराज को संगीत नाटक अकादमी कब प्राप्त हुआ?
22 वर्ष की अल्पायु में केंद्रीय संगीत नाटक अकादमी का राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ।

 

बिरजू महाराज के गुरू कौन थे उनका संक्षिप्त परिजच दीजिए?
बिरजू महाराज के गुरु उनके पिताजी अच्छन महाराज, उनके लच्छू महाराज (चाचा) और उनकी मां थी। पिता ने बचपन से ही अपने यशस्वी पुत्र को कला दीक्षा देनी शुरू कर दी। बिरजू महाराज को कथक विरासत में मिली थी। अच्छन महाराज की निधन के बाद भी कत्थक नृत्य प्रशिक्षण लेना शुरू किया|

बिरजू महाराज के पिता कौन थे?
इनके पिता का नाम जगन्नाथ महाराज था, जो लखनऊ घराने से थे और अच्छन महाराज के नाम से जाने जाते थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टोक्यो पहुंचे, भारतीय प्रवासियों ने किया स्वागत, जापानी बच्चे के हिन्दी बोलने पर गदगद हुए PMदिल्ली-NCR में सुबह आंधी और बारिश से कई जगह उखड़े पेड़, विमान सेवा प्रभावितज्ञानवापी मामले के बीच गोवा के सीएम का बड़ा बयान, प्रमोद सावंत बोले- 'जहां भी मंदिर तोड़े गए फिर से बनाए जाएं'BJP को सरकार बनाने के लिए क्यों जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारीबेल्जियम, पहला देश जिसने मंकीपॉक्स वायरस के लिए अनिवार्य किया क्वारंटाइनएशिया कप हॉकी: पहले ही मैच में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान, ऐसा है दोनों टीमों का रिकॉर्डआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट की बात कर रहे हैं, जानें क्या है यह एक्टकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थिति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.