scriptकेवाईसी बनी फांस, भोर होने के साथ लगानी पड़ रही कतार | Patrika News
समाचार

केवाईसी बनी फांस, भोर होने के साथ लगानी पड़ रही कतार

पाली. प्रदेश में केवाइसी (नो योर कस्टमर) करवाना सरकार व खाद्य सुरक्षा योजना के पात्र लोगों दोनों के लिए फांस बन गया है। सरकार के लाख जतन करने के बावजूद किसी भी जिले में खाद्य सुरक्षा के पात्र लोगों के केवाईसी करने के नजदीक नहीं है। इसकी अंतिम तिथि 30 जून होने के कारण पात्र […]

पालीJun 20, 2024 / 07:54 pm

Manish kumar Panwar

केवाईसी बनी फांस, भोर होने के साथ लगानी पड़ रही कतार

पाली में आधार अपडेशन के लिए कलक्ट्रेट स्थित आधार केन्द्र के बाहर कतार में खड़े लोग। जबकि आधार केन्द्र बंद पड़ा था।

पाली. प्रदेश में केवाइसी (नो योर कस्टमर) करवाना सरकार व खाद्य सुरक्षा योजना के पात्र लोगों दोनों के लिए फांस बन गया है। सरकार के लाख जतन करने के बावजूद किसी भी जिले में खाद्य सुरक्षा के पात्र लोगों के केवाईसी करने के नजदीक नहीं है। इसकी अंतिम तिथि 30 जून होने के कारण पात्र लोगों के परिजनों को काम-काज छोड़कर रोजाना कतार में खड़े होना पड़ रहा है। सबसे अधिक परेशानी बच्चों व बुजुर्गों को है। जिनके आधार अपडेट नहीं है। उनको भोर होते ही आधार अपडेट कराने के लिए कतार में लगना पड़ रहा है। वहां भी किसी के अंगूठे का निशान नहीं आ रहा तो किसी के आंखे तक स्कैन नहीं हो रही। जिससे केवाईसी नहीं हो रही है। कई लोगों के आधार की सीडिंग नहीं हुई है। उनको आधार अपडेट कराने के बाद पहले आधार सीडिंग करानी पड़ रही है।

जिले में 13 लाख पात्र

पाली जिले में 13 लाख 24 हजार 598 लोग खाद्य सुरक्षा के लाभार्थी है। इनमें से अभी केवल करीब 60 प्रतिशत लोगों की केवाईसी हुई है। जबकि केवाईसी करवाने की अंतिम तिथि 30 जून आने में महज 11 दिन शेष है। ऐसे सभी लोगों को गेहूं बंद होने की आशंका है। हालांकि गेहूं बंद करने को लेकर अभी तक कोई निर्देश नहीं है।

मिलते है सिर्फ गेहूं

राशन की दुकानों पर अभी केवल गेहूं मिलते है। वह भी केवल राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना (एनएसएफए) में चयनित लोगों को ही मिलता है। केवाईसी कराने से इस योजना में फर्जी जुड़े या जिन लोगों की मृत्यु के बाद भी उनके नाम से गेहूं लिया जा रहा है। उनके नाम हटेंगे। इसके बाद एनएफएस में नए नाम जुड़ सकेंगे। जो अभी नहीं जोड़े जा रहे है।

आधार अपडेशन केन्द्र कम

जिले में आधार को अपडेट कराने के केन्द्र बहुत कम है। पाली शहर में पंचायत समिति के पास और कलक्ट्रेट के अलावा केवल डाकघर में ही आधार अपडेट किए जाते है। ऐसे में वहां सुबह छह बजे से लोग कतार लगाकर बैठ जाते है। यह कतार पूरे दिन समाप्त नहीं होती है। गांवों व कस्बों में आधार अपडेशन का कार्य भी एक-दो जगह पर हो रहा है।

मेरा आधार कराना अपडेट

मैं अपना आधार कार्ड अपडेट कराने आई हूं। मेरे केवाईसी करवानी है। राशन की दुकान पर बताया कि आधार को अपडेट कराके आना। इस कारण सुबह से कतार में लगी हूं। इंदिरा बाई, शहरवासी

बच्चों के नहीं आ रहे निशान

मैं केवाइसी कराने राशन की दुकार पर गई थी। वहां मेरे बच्चों के अंगूठे के निशान नहीं आ रहे है। मेरे गेहूं आने बंद हो सकते है। इस कारण आधार ठीक कराने आई हूं। कमला बाई

गिरादड़ा गांव से आया

बुजुर्ग चेलाराम ने कहा कि गिरादड़ा से पाली कलक्ट्रेट आधार अपडेट कराने आया हूं। गांव में कहा तो आधार बनाने के बाद राशन की दुकान पर अंगूठा आएगा। इस कारण सुबह से यहां बैठा हूं। चेलाराम

Hindi News/ News Bulletin / केवाईसी बनी फांस, भोर होने के साथ लगानी पड़ रही कतार

ट्रेंडिंग वीडियो