scriptमृतकों के आश्रितों को आर्थिक सहायता देने की मांग पर अड़े ग्रामीण, शवों को नहीं हुआ पोस्टमार्टम | Patrika News
समाचार

मृतकों के आश्रितों को आर्थिक सहायता देने की मांग पर अड़े ग्रामीण, शवों को नहीं हुआ पोस्टमार्टम

श्रीगंगानगर के सूरतगढ़ क्षेत्र के नेशनल हाइवे 62पर 28 चक स्थित सैन्य छावनी गेट के पास मंगलवार रात्रि करीब नौ बजे सेना के वाहन की टक्कर से मोटरसाइकिल पर सवार तीन जनों की हुई मौत के मामले में ग्रामीण व परिजन आर्थिक सहायता देने की मांग पर अड़ गए। इस वजह से सीएचसी की मोर्चरी में शवों का पोस्टमार्टम नहीं हो सका।

श्री गंगानगरJun 12, 2024 / 12:14 pm

Jitender ojha

श्रीगंगानगर के सूरतगढ़ क्षेत्र के नेशनल हाइवे 62पर 28 चक स्थित सैन्य छावनी गेट के पास मंगलवार रात्रि करीब नौ बजे सेना के वाहन की टक्कर से मोटरसाइकिल पर सवार तीन जनों की हुई मौत के मामले में ग्रामीण व परिजन आर्थिक सहायता देने की मांग पर अड़ गए। इस वजह से सीएचसी की मोर्चरी में शवों का पोस्टमार्टम नहीं हो सका। बुधवार सुबह करीब ग्यारह बजे सदर थानाधिकारी कृष्ण कुमार व ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल सैन्य छावनी में सेना के अधिकारियों से वार्ता के लिए गया हुआ था। वही, सीएचसी की मोर्चरी के आगे मृतक के परिजन व ग्रामीणों की भीड़ जुटी रही।सदर पुलिस ने बताया कि मंगलवार रात्रि करीब नौ बजे नेशनल हाईवे 62 पर28 चक स्थित सैन्य छावनी के पास भगवानसर में स्थित इंटरलॉकिंग फैक्ट्री से काम करके चार जने बाइक पर सवार होकर गांव 5 एसएचपीडी ए की तरफ जा रहे थे। इस दौरान बाइक अनियंत्रित होकर सेना के वाहन से टकरा गई। जिससे 5 एसएचपीड़ी ए निवासी राजविंदर सिंह(35) पुत्र कलवंत सिंह, अंग्रेज सिंह (35)पुत्र पहलवान सिंह, गुरदयाल सिंह (20) पुत्र बलवंत सिंह व चार एसएचपीडी निवासी जोगेंद्र सिंह (45) पुत्र मालासिंह घायल हो गए। सेना के जवान घायलों को उठाकर सैन्य अस्पताल ले गए। इसमें से अंग्रेज सिंह, गुरदयाल सिंह व जोगिंदर सिंह की मौत हो गई। जबकि राजविंदर सिंह घायल हो गया। इसके बाद सेना के जवान घायल राजविंदर को ट्रोमा सेंटर लेकर आए। जहां चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार कर बीकानेर रेफर कर दिया। लेकिन परिजन उसे निजी चिकित्सालय ले गए। वहीं सदर पुलिस ने देर रात तीनों शवो को सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया।
यह भी पढ़े….

फ्लैट दिखाने का बहाना कर महिलाओं ने बुलाया, हनीट्रैप में फंसाकर लाखों रुपए वसूले और गाड़ी छीनी

मृतक के आश्रितों को आर्थिक सहायता देने की मांग,नहीं हुआ शवों का पोस्टमार्टम

पुलिस ने बताया कि चारों जने दिहाड़ी मजदूरी का काम करते थे। मंगलवार शाम को काम करके गांव लौट रहे थे। इस दौरान बाइक अनियंत्रित होकर 28 चक स्थित सैन्य छावनी गेट के पास अनियंत्रित होकर सेना के वाहन में टकरा गई। जिससे तीन जनों की मौत हो गई। बुधवार सुबह सीएचसी की मोर्चरी के बाहर मृतकों के परिजन मौजूद रहे। इस मौके पर पूर्व विधायक राजेन्द्र भादू, नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष परसराम भाटिया, पूर्व उपप्रधान किशन कुमार गोदारा, अरूण गोदारा, ओम गेदर, गोपीराम जसकरण सिंह, गुरदेव सिंह, रेशम सिंह सहित मृतक के परिजनों ने सदर थानाधिकारी से कहा कि इस मामले में मृतक के आश्रितों को आर्थिक मदद की जाए। मृतक दिहाड़ी मजदूरी करके परिवार का पालन कर रहे थे। अब उनके सामने आर्थिक समस्या खड़ी हो गई। उन्होंने सदर थानाधिकारी से सेना के अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत कर आर्थिक सहायता दिलाने का आग्रह किया। इसके बाद सदर थानाधिकारी कृष्ण कुमार के नेतृत्व में ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल सैन्य छावनी में सेना के अधिकारियों से मिलने के लिए गया। इस प्रतिनिधिमंडल में पूर्व विधायक राजेन्द्र भादू, किशन गोदारा, रेशम सिंह, ओम गेदर, प्रीतम सिंह, गुरदेव सिंह आदि शामिल है।
यह भी पढ़े….

रूके हुए काम फिर अटके, पौने चार करोड़ की लागत से अंडरपास निर्माण की प्रक्रिया अटकी

हादसे के बाद जुट गई थी भीड़, पुलिस ने संभाला मोर्चा

सडक़ हादसे के बाद मौके पर राहगीरों की भीड़ जुट गई। सेना के जवान चारों जनों को सैन्य चिकित्सालय ले गए। हादसे की सूचना मिलने पर सदर पुलिस व मृतकों के परिजन भी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने वहां यातायात व्यवस्था संभाली। मंगलवार देर रात्रि को तीन शवों को सैन्य चिकित्सालय से सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया। वही, एक घायल का प्राथमिक उपचार के बाद ट्रोमा सेंटर लाया गया। इसके बाद परिजन घायल को बीकानेर की बजाए सूरतगढ़ के निजी चिकित्सालय में उसे इलाज के लिए भर्ती किया।

Hindi News/ News Bulletin / मृतकों के आश्रितों को आर्थिक सहायता देने की मांग पर अड़े ग्रामीण, शवों को नहीं हुआ पोस्टमार्टम

ट्रेंडिंग वीडियो