सीएम योगी के कार्यक्रम में शाहबेरी के फ्लैट खरीददारों का हंगामा, नेफोमा और जेपी बायर्स ने सौंपा ज्ञापन

सीएम योगी के कार्यक्रम में शाहबेरी के फ्लैट खरीददारों का हंगामा, नेफोमा और जेपी बायर्स ने सौंपा ज्ञापन

Rahul Chauhan | Updated: 14 Jun 2019, 06:29:55 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

खबर की मुख्य बातें-

-शाहबेरी के फ्लैट बायर्स ने जमकर हंगामा किया

-नेफोमा ने भी रखी अपनी बात

-जेपी बायर्स ने दिया ज्ञापन

ग्रेटर नोएडा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को गौतमबुद्ध नगर की तीनों प्राधिकरण की समीक्षा बैठक करने पहुंचे। नौवीं बार जिले में आए सीएम योगी के प्रोग्राम के दौरान शाहबेरी के फ्लैट बायर्स ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान बायर्स ने मुख्यमंत्री से मुलाकात करनी चाही, लेकिन सुरक्षाकर्मियों द्वारा उन्हें बैठक स्थल के बाहर ही रोक दिया गया। जिसके बाद बायर्स भड़क गए और उन्होंने अपने फ्लैटों को लेकर जमकर नारेबाजी की।

यह भी पढ़ें : सीएम के आगमन की तैयारियां पूरी, तीनों प्राधिकरण और पुलिस-प्रशासन की धड़कनें बढ़ी

 

yogi

बायर्स का कहना है कि जिलाधिकारी ने शाहबेरी में अवैध निर्माण को ध्वस्त करने के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को पत्र लिखा है। हम इसका विरोध करने और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से मिलने यहां आए, लेकिन हमें नहीं मिलने दिया गया। हम पूछना चाहते हैं कि हमारे फ्लैट किस तरह से अवैध हैं। प्रशासन अगर सत्यापित नहीं कर पाता है, तो वह अपना फैसला वापस ले।

yogi

नेफोमा और जेपी के बायर्स ने भी रखी अपनी बात

मुख्यमंत्री के आने की सूचना मिलते ही उन लाखों बायर्स को एक बार फिर रोशनी की किरन दिखी जो वर्षों से अपने सपनों के आशियाने का इंतजार कर रहे हैं। इसके चलते नेफोमा और जेपी ग्रुप के बायर्स ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। जिसमें उन्होंने सीएम से गुहार लगाई की उनके घर जल्द से जल्द दिलाए जाएं और बिल्डरों पर कार्रवाई की जाए।

nefoma

इस बाबत जानकारी देते हुए नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया कि दो साल पहले अमेटी यूनिवर्सिटी में मुख्यमंत्री योगी द्वारा मीटिंग की गयी थी। जिसमें बायर्स ग्रुप एवं विधायक पंकज सिंह, उद्योग मंत्री सतीश महाना के साथ मीटिंग हुई थी। जिसमें लाखों फ्लैट बॉयर्स की समस्याओं को गम्भीरता से समझते हुए तुरंत तीन मंत्रियों की समिति अक्टूबर 2017 में गठित कर दी थी। उसके बाद नोएडा, ग्रेटर नोएडा वेस्ट, एक्सप्रेसवे के लाखों फ्लैट ख़रीदारों ने अपनी खुशी जाहिर की थी।

nefoma

उन्होंने बताया कि बायर्स को एक उम्मीद जगी थी, लेकिन फिर भी बिल्डरों और प्राधिकरण पर इसका कोई असर नहीं हुआ, बल्कि मंत्री समिति आती रही। बार बार अधिकारियों और बिल्डरों से बन्द कमरे में मीटिंग करते रहे, कभी फ्लैट बॉयर्स से नहीं पूछा कि कितनी समस्या का समाधान निकाला? कितने फ्लैट मिले? हमने सीएम से गुहार लगाई है कि बायर्स ने अपनी गाढ़ी कमाई देकर फ्लैट बुक किए हैं, उन्हें उनके घर जल्द से जल्द दिलाए जाएं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned