नोएडा में रैन बसेरा: सिर्फ पुरुषों का है ठिकाना, महिलाओं को पड़ रहा सड़कों पर रात बिताना, देखें वीडियो

Highlights:

-नोएडा में प्रशासन ने पूरे शहर में एक मात्र रैन बसेरे का इंतजाम नोएडा स्‍टेडियम में किया है

-नोएडा स्टेडियम में रैन बसेरा तो बना दिया गया है, लेकिन ये शहर के व्यस्त स्थानों से दूर है

-साथ ही इसमें महिलाओं को रात गुजारने की अनुमति नहीं है

नोएडा। सर्दी ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। इन दिनों चल रही शीतलहरी लोगों को कंपकपा रही है। जिला प्रशासन व नोएडा प्राधिकरण की ओर से ठंड से बचाव के लिए पर्याप्त प्रबंध नहीं किए गए हैं। 15 लाख आबादी वाले नोएडा में प्रशासन ने पूरे शहर में एक मात्र रैन बसेरे का इंतजाम नोएडा स्‍टेडियम में किया है। नोएडा स्टेडियम में रैन बसेरा तो बना दिया गया है, लेकिन ये शहर के सेक्टर-18, बॉटनिकल गार्डन और सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन जैसे व्यस्त स्थानों से दूर होने से जरूरतमंद इसका फायदा नहीं उठा पा रहे हैं। साथ ही इसमें महिलाओं को रात गुजारने की अनुमति नहीं है, ऐसे में सड़क पर सोने को मजबूर कई परिवार इस कड़कड़ाती ठंड में भी जैसे-तैसे खुले आसमान के नीचे रात गुजार रहे हैं।

यह भी पढ़ें : पाकिस्तानी युवक से मिलने दुबई पहुंची मेरठ की युवती, संसद में गूंजा मामला तो घर वापस लौटी

दरअसल, नोएडा स्टेडियम में गेट नंबर-7 के पास शहर का एक मात्र रैन बसेरा नोएडा प्राधिकरण ने बनवाया है। जो एक दिसम्बर से शुरू हो गया है। इस रैन बसेरे में करीब 100 लोगों के सोने की व्यवस्था है। यहां कंबल, पानी और शौचालय की भी व्यवस्था है और आग से बचाव ने लिए अग्निशमन यंत्र लगा हुआ है। जबकि नियमों के मुताबिक हर एक लाख की आबादी पर एक रैन बसेरा होना चाहिए। 2010 में सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को आदेश जारी किए थे कि शहरों में जनसंख्या के आधार पर रात्रिकालीन आश्रय स्थलों का निर्माण किया जाए. वहां कंबल, पानी, दवाइयां, शौचालय और बिजली आदि की भी नि:शुल्क सुविधा भी मुहैया की जानी चाहिए. बहरहाल इस प्रकार कई सुविधा इस रैन बसेरे में नजर नही आई।

यह भी पढ़ें: तेज रफ्तार कंटेनर ने पुलिस चौकी में मारी टक्कर, जांच करने पर अंदर मिली करोड़ों रुपये की संदिग्ध दवाईयां

रात को जब पत्रिका की टीम रियल्टी जांच के लिए सड़कों पर निकली तो कई कड़वी सच्चाईयों का सामना करना पड़ा। रैन बसेरा सिर्फ बेघर लोगों के लिए ही सिर छुपाने का आश्रय स्थल नहीं है। यहाँ वे लोग भी रात बिताने आते हैं जिनका भरा पूरा परिवार है। एक ऐसे ही शख्स बी.पी भक्त रैन बसेरे में मिले जिनके परिवार में तीन भाई और तीन बेटे हैं। वह खुद भी डीयू से लाइब्रेरियन के पद से रिटायर्ड हैं और 20 हज़ार रुपये की पेंशन भी मिलती है। वह बताते हैं कि घर में झगड़ा हुआ तो परिवार वालों ने उन्हें निकाल दिया। पिछले एक हफ्ते से वह रैन बसेरे में ही रात बिताने आ रहे हैं। जबकि वाई.एस राणा पेशे से होटल के सेफ हैं। उत्तराखंड से नौकरी की तलाश में आए थे। शाप्रिक्स मॉल में नौकरी मिल गई है। लेकिन, रेस्टोरेन्ट में निर्माण का काम चल रहा है तो दो दिन के लिए रुकने के लिए उन्होंने रैन बसेरे का सहारा लिया।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned