नोएडा बिल्डिंग हादसा: इस 'पार्टी' के अध्यक्ष की है बहुमंजिला इमारत, जिसमें दबकर दो की गई जान

Highlights:

-तीन मंज़िल इमारत गिर जाने से मलबे में दबे थे पांच

-दो की मौत, तीन गंभीर

-डीएम ने दिये सिटी मजिस्ट्रेट को हादसे की जांच के आदेश

By: Rahul Chauhan

Updated: 01 Aug 2020, 10:03 AM IST

नोएडा। सेक्टर-11 के एफ़ ब्लॉक में एक निर्माणाधीन तीनमंजिला इमारत के गिर जाने से उसके मलबे में प्लांबिंग का काम कर रहे चार युवक और एक महिला दब गई। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस बल के साथ डीसीपी नोएडा और फायर बिग्रेड की टीम पहुँच गई। मलबे में से निकाले गए पांचों लोगों को अस्पताल भेजा गया। जिसमें से दो की मौत हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेने अधिकारियों में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में सभी अधिकारी मौके पर पहुँच और उनकी देख रेख मे मज़दूरों को रेसक्यू किया गया । जिलाधिकारी ने सिटी मजिस्ट्रेट को हादसे की जांच के आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: नोएडा बिल्डिंग हादसा: ठेकेदार और मजदूर की मलबे में दबकर मौत, मौके पर पहुंचे कमिश्नर और डीएम

पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार ने बताया यह हादसा नोएडा सेक्टर-11 के एफ ब्लॉक में हुआ है। इमारत के पिछले हिस्से में सोलर पैनल बनाने वाली फैक्ट्री चलती है। निर्माण अगले हिस्से में चल रहा था,वही ढहा है। अब तक यह बात सामने आई है कि जब इमारत ढही तो उस वक्त 5 लोग इमारत में थे। इसमें एक निर्माणाधीन इमारत के मालिक की पत्नी और चार मजदूर थे । महिला दूसरी तरफ थी लेकिन फंस जरूर गई थी। मरने वालों की पहचान ठेकेदार जैनेंद्र और मजदूर गोपी के रूप में हुई है। दोनों कानपुर देहात के निवासी और रिश्तेदार भी थे। घायलों में लोनी निवासी सागर और बागपत छपरौली निवासी राहुल हैं।

यह भी पढें: नोएडा-ग्रेटर नोएडा में पहले भी गिर चुकी हैं इमारतें, जा चुकी कई जान, अब भी धड़ल्ले से हो रहा अवैध निर्माण

इस इमारत का निर्माण राष्ट्रीय मनुवादी पार्टी के अध्यक्ष आर के भारद्वाज करवा रहे थे। जिनकी शक्ति टेक्नोफेब प्रोडक्ट के नाम से इलेक्टि्कल पैनल बनाने की औद्योगिक इकाई है। निर्माण कार्य के दौरान ही फैक्ट्री में पैनल बनाने का काम किया जा रहा था। कोविड-19 के चलते शुक्रवार को आधे से भी कम कर्मचारी काम पर थे। शाम पांच बजे की शिफ्ट समाप्त कर वह घर चले गए। शाम करीब सात बजे इमारत का एक हिस्सा गिर गया। उस समय इमारत 5 लोग मौजूद थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेने से आनन फानन में जिलाधिकारी सुहास एल वाइ, सिटी मजिस्ट्रेट उमाशंकर सिंह, अपर पुलिस आयुक्त श्रीपर्णा गांगुली, डीसीपी संकल्प शर्मा सहित पुलिस प्रशासन व नोएडा प्राधिकरण के तमाम अधिकारी मौके पर पहुंच गए। जिलाधिकारी ने हादसे के कारणों की जांच के लिए सिटी मजिस्ट्रेट और नोएडा विकास प्राधिकरण की टीम बनाई है। जिलाधिकारी ने पूरे मामले की जानकारी शासन को दी है। नोएडा सेक्टर-30 के जिला अस्पताल घायलों को देखने के लिए नोएडा के पुलिस कमिश्नर और जिलाधिकारी खुद अस्पताल पहुंचे।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned