Exclusive: Pappu Yadav मजदूरों को ले जा रहे थे Bihar, DND पर पुलिस ने रोका

Highlights

  • Pappu Yadav और Asif Kamal मजदूरों को ले जा रहे थे उनके घर
  • 15 बसों में करीब 450 लोगों को ले जाया जा रहा था Delhi से
  • गुरुवार देर डीएनडी से रवाना किया गया सभी बसों को

By: sharad asthana

Updated: 23 May 2020, 01:24 PM IST

नोएडा। कोविड—19 (COVID 19) महामारी के इस दौर में सबसे ज्यादा मार प्रवासी मजदूरों पर पड़ी है। हालांकि, केंद्र व राज्य सरकारें अब इनको इनके घरों तक पहुंचा रही है, लेकिन अब भी हजारों मजदूर पैदल ही घर का रास्ता सफर तय कर रहे हैं। इसको देखते हुए कई निजी संस्थाओं ने भी जनप्रतिनिधियों की मदद से इनको घर पहुंचाने की जिम्मा उठाया है।

देर रात रवाना की गई बसें

इसी तरह दिल्ली (Delhi) से प्रवासी मजदूरों से 15 बसों से बिहार (Bihar) ले जाया जा रहा था। गुरुवार (Thursday) रात को इनको डीएनडी (DND) पर रोक लिया। जेवर (Jewar) के भाजपा (BJP) विधायक (MLA) धीरेंद्र सिंह (Dhirenadra Singh) ने मामला संज्ञान में आने के बाद स्थानीय पुलिस से बात की। इसके बाद गुरुवार देर रात बसों को बिहार के लिए रवाना किया गया। वहीं, नोएडा पुलिस (Noida Police) अधिकारियों ने इस तरह की किसी भी मामले की जानकारी से इंकार किया है।

यह भी पढ़ें: Good News: Delhi—Ghaziabad Border खुला, अब नहीं दिखाना होगा पास

vlcsnap-2020-05-23-12h10m00s637.png

एक बस में बैठाए गए 32 यात्री

दिल्ली से करीब साढ़े चार सौ मजदूरों को लाने के लिए आसिफ कमाल फाउंडेशन (Asif Kamal Foundation) के संस्थापक आसिफ़ कमाल और जन अधिकारी पार्टी के संस्थापक व मधेपुरा (Madhepura) के पूर्व सांसद पप्पू यादव (Ex MP Pappu Yadav) ने जिम्मा उठाया। इसके लिए दिल्ली में ही 15 बसों का इंतजाम किया गया। इस बीच सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए एक बस में 32 यात्रियों को बैठाया गया। इनके साथ पप्पू यादव और आसिफ कमाल खुद मौजूद रहे। प्रवासी मजदूरों को ला रही 15 बसों को भी डीएनडी पर नोएडा पुलिस ने रोक लिया। पुलिस का कहना था रात में किस भी बस को एंट्री करने की इजाजत नहीं है।

यह भी पढ़ें: Bulandshahr: गाय को बचाने के लिए गंदे नाले में कूद पड़े BSP के पूर्व बाहुबली विधायक

विधायक को किया ट्वीट

इसके बाद जेवर से भाजपा विधायक धीरेंद्र सिंह से ट्विटर (Twitter) के माध्यम से मदद मांगी गई। मामला संज्ञान में आने के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री से बात करके तड़के बसों को रवाना करवाने का आश्वासन दिया। इस बारे में आसिफ कमाल का कहना है कि वे अन्य राज्यों में फंसे बिहारियों को उनके घर भेजने में लगे हुए हैं। पप्पू यादव और उनके फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से 15 बसों को दिल्ली से बिहार भेजा है। हर बस में 32 लोगों को बैठाया गया था। साथ ही खाना और जरूरी सामान भी मुहैया कराया गया है।

पुलिस अधिकारियों ने जानकारी से किया इंकार

उनका कहना है कि गुरुवार देर रात करीब साढ़े 3 बजे बसों को यहां रवाना कर दिया गया। उनको बॉर्डर पर पुलिस ने बताया था कि औरैया हादसे के बाद रात में बसों की एंट्री बंद है। यह समयसीमा रात 9 बजे से तड़के 4 बजे तक है। देर रात करीब साढ़े 3 बजे बसों को यहां से रवाना कर दिया गया। वहीं, इस मामले में जब डीसीपी, एडिशनल डीसीपी और एसीपी ट्रैफिक से बात की गई तो उन्होंने इसकी जानकारी से इंकार कर दिया।

sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned