बूढ़े मां-बाप मांग रहे थे भीख, पता लगते ही महिला अधिकारी ने इन्हें लगार्इ फटकार

बूढ़े मां-बाप मांग रहे थे भीख, पता लगते ही महिला अधिकारी ने इन्हें लगार्इ फटकार

Nitin Sharma | Publish: Sep, 10 2018 05:55:03 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

अचानक महिला अधिकारी के पहुंचने पर मचा हड़कंप

शामली।राज्‍य महिला अायोग के गठन के बाद टीम के अनाथालयों व वृद्धाश्रमों में ताबड़तोड़ छापे जारी है।शामली में भी रविवार को उत्‍तर प्रदेश महिला आयोग की टीम ने छापेमारी की।यहां राज्‍य महिला आयोग की टीम रविवार को झिंझाना रोड स्थित वृद्धाश्रम पहुंची। वहां निरीक्षण आैर बुजुर्गों से बातचीत के बाद पता चला कि उनमें से कर्इ बुजुर्ग भीख मांगते है। यह सुनते ही उपाध्यक्ष ने वहां मौजूद लाेंगों पर जमकर फटकार लगार्इ।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें-भारत बंद को लेकर PM Modi पर बरसे Tejashwi Yadav

आश्रम के बाहर जाकर भीख मांगते है बुजुर्ग

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने रविवार को झिंझाना रोड स्थित प्रकाशवती मेमोरियल वृद्ध वानप्रस्थ आश्रम का औचक निरीक्षण किया।वहां खामियां देखकर वह आगबबूला हो गईं। आयोग की उपाध्यक्ष जैसे ही झिंझाना रोड स्थित वृद्धाश्रम के निरीक्षण पर पहुंचीं तो पूछताछ करने पर पता चला कि आश्रम के बुजुर्ग भीख मांगते हैं।महिला आयोग उपाध्यक्ष ने इस पर कड़ी नाराजगी जताते हुए बुजुर्गों की बच्चों की उम्र के स्टाॅफ पर जमकर फटकार लगार्इ।

यह भी पढ़ें-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम सुसाइड नोट लिखकर इस महिला ने कर ली आत्महत्या, देखते ही चौंक गर्इ पुलिस

बुजुर्ग महिलाआें ने भी सुनार्इ अपनी व्यथा

निरीक्षण के दौरान आश्रम में रहने वाली वृद्ध महिलाओं ने उत्‍तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष को अपनी समस्‍याएं बताईं।इसको सुनकर उपाध्यक्ष का गुस्सा भड़क गया और उन्‍होंने संचालिका व कर्मचारियाें को जमकर फटकार लगाई।इस दौरान दाल में कीड़े मिलने पर उन्होंने संचालिका और अन्य स्टाफ को हिरासत में लेने के निर्देश दिए।उत्‍तर प्रदेश महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने बताया कि उन्हें पता नहीं था कि शामली स्थित वृद्धाश्रम में इतनी खामियां हैं।रविवार को आश्रम में आने के बाद ही उन्हें वृद्धों की पीड़ा का अहसास हुआ।रजिस्टरों की जांच करने पर पता चला कि जितने लोगों का डाटा रजिस्टर में दर्ज किया गया है, उतने लोग तो आश्रम में हैं ही नहीं। वह जनपद के वृद्धाश्रमों का निरीक्षण करने आई हैं।पूछताछ में वृद्धों ने खाना न मिलना, बीमार होने पर उपचार की सुविधा न मिलने सहित जैसे कई गंभीर आरोप लगाए।उन्होंने अधिकारियों को जांच के निर्देश दिए हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned