ब्लूचिस्तान सरकार का अधिकारियों को फरमान- फोन में लगाएं 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे वाली कॉलर ट्यून

सचिवों को यह भी बताया गया है कि वे अपने कार्यालय में तैनात सभी कर्मचारियों से इस आदेश का पालन सुनिश्चित कराएं। रिंगटोन को कैसे डाउनलोड करना है, इसकी पूरी प्रक्रिया आदेश की कापी में समझाई गई है।

 

By: Ashutosh Pathak

Published: 01 Oct 2021, 08:54 AM IST

नई दिल्ली।

ब्लूचिस्तान सरकार ने अपने सभी सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश जारी किया है कि वे अपने फोन में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे वाली कॉलर ट्यून लगाकर रखें। ब्लूचिस्तान के मुख्य सचिव ने बैठक के बाद यह निर्देश जारी किया।

इस आदेश के तहत मोबाइल ऑपरेटरों के लिए कॉलर ट्यून हासिल करने की प्रक्रिया तय की गई है। कॉलर ट्यून यानी फोन करने वाले को रिंगिंग के दौरान जो आवाज सुनाई देती है। ब्लूचिस्तान सरकार की ओर से इस संबंध में एक नोटिफिकेशन भी जारी किया गया है। इस आदेश में कहा गया है कि सभी विभागों के सचिव सहायक सचिव और उप सचिव समेत तमाम विभागों के प्रमुख अधिकारियों और कर्मचारियों को इस इस निर्देश का सख्ती से पालन करना होगा।

यह भी पढ़ें:- किम जोंग उन दक्षिण कोरिया के साथ सुलह को तैयार, बहाल कर सकते हैं हॉटलाइन

सचिवों को यह भी बताया गया है कि वे अपने कार्यालय में तैनात सभी कर्मचारियों से इस आदेश का पालन सुनिश्चित कराएं। रिंगटोन को कैसे डाउनलोड करना है, इसकी पूरी प्रक्रिया आदेश की कापी में समझाई गई है। वैसे, इस आदेश की कापी में यह नहीं बताया गया है कि सरकार ने अचानक यह बेतुका फैसला क्यों लिया। बस, तालिबानी फरमान के तहत यह आदेश जारी कर दिया गया है कि विभिन्न नेटवर्कों का इस्तेमाल कर रहे कर्मचारी और अधिकारी इस रिंगटोन को जरूर लगवाएं और पूरी प्रक्रिया का पालन करें।

यह भी पढ़ें:- जेब पर असर: बदल सकती हैं PPF, NSC समेत कई योजनाओं की ब्याज दरें, जानिए अब तक कितना दे रही है सरकार

हालांकि, बलूचिस्तान सरकार के इस तुगलकी फरमान की काफी आलोचना भी हो रही है। पत्रकारों और तमाम सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने इस सरकारी फरमान को लेकर तंज कसा है तथा इसकी निंदा की है। इन सबके बावजूद बलूचिस्तान सरकार इस फैसले को वापस लेने के मूड में नहीं दिख रही।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned