पंडोरा पेपर्स: ICIJ ने जारी किए पाकिस्तान के 700 लोगों के नाम, इमरान खान के दोस्त और रिश्तेदार भी इसमें शामिल

ICIJ की ओर से तैयार किए गए इस सूची में कर्ज और भुखमरी से परेशान पाकिस्तान के तमाम नेताओं, अधिकारियों और दूसरी चर्चित शख्सियतों के नाम शामिल हैं। इस सूची में पाकिस्तान के वित्त मंत्री शौकत तारिन सहित प्रधानमंत्री इमरान खान के कई करीबियों के भी नाम हैं।

 

 

By: Ashutosh Pathak

Updated: 04 Oct 2021, 08:38 AM IST

नई दिल्ली।

इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स यानी ICIJ ने एक बार फिर बड़े पैमाने पर हुए भ्रष्टाचार का खुलासा किया है। इस बार ICIJ ने पेंडोरा पेपर्स का खुलासा किया है। इसमें दुनियाभर के हाई-प्रोफाइल लोगों के आर्थिक रहस्यों का खुलासा हुआ है।

फिलहाल जारी इस सूची में कर्ज और भुखमरी से परेशान पाकिस्तान के तमाम नेताओं, अधिकारियों और दूसरी चर्चित शख्सियतों के नाम शामिल हैं। इस सूची में पाकिस्तान के वित्त मंत्री शौकत तारिन सहित प्रधानमंत्री इमरान खान के कई करीबियों के भी नाम हैं।

यह भी पढ़ें:-ब्रिटेन ने भारत जाने वाले यात्रियों के लिए नई एडवाइजरी जारी की, जानिए क्या बनाए नियम

पंडोरा पेपर में पाकिस्तानी सीनेटर फैसल वावड़ा, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-क्यू के नेता चौधरी म्यूनिस इलाही, इशाक डार के बेटे, पीपीपी के शारजील मेमन, उद्योग और उत्पादन मंत्री खुसरो बख्तियार का परिवार, पीटीआई नेता अब्दुल अलीम खान, एक्सैक्ट के सीईओ शोएब शेख के नाम शामिल हैं। पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि जांच में कुल 700 से अधिक पाकिस्तानियों का नाम शामिल है। इन लोगों के विदेशी कंपनियों से लेन-देन के संबंध थे। यही नहीं इस मामले में कुछ रिटायर आर्मी ऑफिसर, कारोबारी और मीडिया कंपनी के मालिकों के नाम भी सामने आए हैं। पंडोरा पेपर्स की खोज में पाकिस्तान के इनवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट उमर चीमा और द न्यूज इंटरनेशनल के फखर दुर्रानी भी शामिल थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, लीक हुए दस्तावेजों से पता चला है कि प्रधानमंत्री इमरान खान के की करीबी दोस्त, रिश्तेदार, परिजनों, सरकार में शामिल कुछ कैबिनेट मंत्री और फाइनेंसर शामिल हैं, "गुपचुप तरीके से कई कंपनियों और ट्रस्टों के मालिक हैं और उनके पास करोड़ों डॉलर की अवैध संपत्ति है। हालांकि, इन दस्तावेजों में इस बात का कोई खुलासा नहीं हुआ है कि प्रधानमंत्री इमरान खान के पास भी ऐसी कोई संपत्ति है या नहीं। वहीं, ICIJ के मुताबिक, इन दस्तावेजों में पाकिस्तानी सत्तारुढ़ राजनीतिक दल पीटीआई के प्रमुख दानकर्ता आरिफ नकवी के लेनदेन का भी पता चलता है। आरिफ संयुक्त राज्य में धोखाधड़ी के आरोपों का सामना कर रहा है।

यह भी पढ़ें:- आधार कार्ड को ड्राइविंग लाइसेंस से लिंक कराना हुआ अनिवार्य, इन स्टेप्स को फाॅलो कर जल्दी पूरी करिए प्रक्रिया

गौरतलब है कि पंडोरा पेपर्स लीक में भारत समेत दुनिया के तमाम रइसों और प्रभावशाली लोगों के गुप्त सौदे और अवैध धन के बारे में खुलासा हो सकता है। पंडोरा पेपर्स लीक में दुबई, मोनाको, स्विटजरलैंड और केमैन आइलैंड्स जैसे देशों में दुनियाभर की कई विदेशी कंपनियों और ट्रस्टों के पीछे के लोगों का पता लगाने के लिए एक करोड़ से अधिक फाइलों की जांच की गई है।

ICIJ की ओर से तैयार किए गए दस्तावेज में 100 से अधिक रइसों के अलावा, रूस, भारत, पाकिस्तान, ब्रिटेन, मैक्सिको की चर्चित शख्सियतों के नाम पर कंपनियां मिली हैं। पंडोरा पेपर्स में किंग ऑफ जॉर्डन, यूक्रेन, केन्या के राष्ट्रपतियों, चेक रिपब्लिक के प्रधानमंत्री और पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर से संबंधित जानकारियां भी शामिल हैं। माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों तक और विस्तृत खुलासे हो सकते हैं।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned