scripta place where both humans and animals drink water Time table | बाघ और इंसानों के बीच अनोखा तालमेल, यहां पानी पीने का बना है टाइम टेबल | Patrika News

बाघ और इंसानों के बीच अनोखा तालमेल, यहां पानी पीने का बना है टाइम टेबल

सेहा की झिरिया... रात में बाघ-तेंदुए और दिन में इंसान बुझाते हैं प्यास, जंगली जानवरों और इंसानों के बीच तालमेल का नायाब उदाहरण

पन्ना

Updated: April 27, 2022 12:49:01 pm

पन्ना। जंगली जानवरों और इंसानों के बीच तालमेल देखना हो तो पन्ना टाइगर रिजर्व के हिनौता वन परिक्षेत्र में बसे बिलहटा और कटहरी गांव घूम आइए। यहां एक ऐसा घाट है जहां रात में बाघ-तेंदुए अपनी प्यास बुझाते हैं और दिन में इंसान।

panna01.png
,,

जिला मुख्यालय से करीब 60 किमी. दूर बसे इन गांव के लोगों और जानवरों के लिए घने जंगल के बीच सेहा में करीब 100 फीट नीचे बनी झिरिया ही पानी का सहारा है। यहां रात से सुबह तक हिंसक वन्यप्राणी पानी पीने पहुंचते हैं। जबकि, दिन में गांव के लोग पानी भरते हैं। इसके बावजूद कभी टकराव की स्थिति नहीं बनी। इसका कारण ग्रामीण बताते हैं कि जंगली जानवर ज्यादातर सुबह व शाम के समय पानी पीने जाते हैं। इसलिए हम लोग दिन निकलने के बाद ही झिरिया में जाकर पानी लेते हैं। जानवरों व हमारे बीच समय का यह तालमेल बना रहता है। हालांकि कई बार ग्रामीणों का वन्यप्राणियों से सामना भी हुआ पर वे पानी पीने के बाद वापस अपने रास्ते चले गए और गांव वाले अपने रास्ते लौट आए।

गांव में नहीं पानी का स्त्रोत, ढाई किमी का सफर

बिलहटा निवासी ठाकुरदीन गोंड बताते हैं कि हमारे गांव में कुल 60 घर हैं। सभी आदिवासी हैं। लगभग 400 की आबादी वाले इस गांव में कोई जीवित जलस्रोत नहीं है। एक हैंडपंप लगा है, जिसमें पानी नहीं है। ऐसी स्थिति में सिर्फ झिरिया ही एकमात्र सहारा है। इसके पानी से दो गांव के लोगों के साथ वन्यजीवों की प्यास बुझती है। गांव की आदिवासी महिला नन्हीं बहू बताती है कि घने जंगल के बीच सेहा में 100 फीट नीचे उतरकर आदिवासी महिलाएं व बच्चे पानी के लिए पहुंचते हैं। वहां से पानी सिर पर रखकर ढाई किमी. दूर गांव तक ले जाते हैं।

panna1.jpg

हम जानवरों के साथ ही पले बढ़े

गांव के बैजू आदिवासी बताते हैं कि बिलहटा गांव की तरह कटहरी में भी कोई जलस्रोत नहीं है। सिर्फ एक हैंडपंप लगा है, जिसका पानी ठीक नहीं है। कटहरी में लगभग 60 घर हैं तथा यहां की आबादी 300 के आसपास है। हम लोग इसी जंगल में जानवरों के साथ पले बढ़े हैं। इसलिए हमें डर नहीं लगता। वन कर्मचारियों का कहना है कि झिरिया में बारह महीने पानी बना रहता है। इसके पानी से वन्य प्राणियों के साथ-साथ आदिवासी भी अपनी प्यास बुझाते हैं।

panna2.jpg

वन्यजीवों का रहता है खतरा, समूह में जाते हैं पानी लेने

कटहरी की ही केसरबाई की मानें तो सेहा के ऊपर दो गांव कटहरी और बिलहटा बसे हैं। इन दोनों गांव से झिरिया (जलस्रोत) की दूरी ढाई किमी है। वहां पहुंचने के लिए जंगल के बीच से पगडंडी है। ऊबड़-खाबड़ पत्थरों वाली इसी पगडंडी से गुजरते समय जंगल में हिंसक वन्यजीवों की आहट भी सुनाई देती है। कभी कभी बाघ, तेंदुआ व भालू जंगल में घूमते मिल जाते हैं। इनका हमेशा खतरा बना रहता है। ऐसे में हम लोग कभी अकेले पानी लेने नहीं जाते। हमेशा 8-10 के समूह में जाते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट पर सस्पेंस बरकरार, सुप्रीम कोर्ट पर टिकी सभी की नजरें; जानें सियासी संग्राम में अब आगे क्या?Maharashtra Floor Test: मुंबई लौटने से पहले एकनाथ शिंदे ने भरी हुंकार, कहा- हमारे पास बहुमत है, हमें कोई नहीं रोक सकताMaharashtra Political Crisis: क्या उद्धव ठाकरे के इस फैसले ने बिगाड़ा सारा खेल! NCP की भूमिका पर भी उठ रहे है सवालबिहार में बड़ा सियासी बवाल, Owaisi की पार्टी के 5 में से 4 विधायक RJD में हुए शामिलपहले खुलेआम कन्हैयालाल की नृशंस हत्या की धमकी, फिर सिर कलम कर दिया, आतंकियों की करतूतों से मेल खाता है तरीकानवीन जिंदल को भी कन्हैया लाल की तरह जान से मारने की मिली धमकी, दिल्ली पुलिस से की शिकायतMumbai News Live Updates: शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने कहा- 2/3 बहुमत है हमारे पासSecurity To Ambani Family: मुकेश अंबानी की सुरक्षा से जुड़े मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई त्रिपुरा HC के आदेश पर रोक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.