scriptHere diamond comes out after washing the dust | यहां धूल को धोने पर निकलता है हीरा, अवैध रूप से चला रहे थे मोबाइल क्रशर | Patrika News

यहां धूल को धोने पर निकलता है हीरा, अवैध रूप से चला रहे थे मोबाइल क्रशर

जिले का बृजपुर- पहाड़ीखेड़ा क्षेत्र हीरा धारित पट्टी क्षेत्र है। खनिज विभाग सबसे अधिक हीरा खदानों के पट्टे इसी क्षेत्र में जारी करता है।

पन्ना

Published: December 08, 2021 03:04:07 pm

पन्ना. जिले के हीरा धारित पट्टी क्षेत्र बृजपुर के ग्राम दमचुका में संचालित हीरा खदानों में स्वीकृत क्षेत्र से अधिक में खानन करने और अवैध रूप से मोबाइल क्रशर मशीनों पर खजिन विभाग की टीम ने छापामार कार्रवाई की। कार्रवाई के दौरान अवैध रूप से संचालित दो मोबाइल क्रशर मशीन जब्त की गई है। मशीनों के जब्ती की पंचनामा कार्रवाई के बाद खदानों की नापजोख भी की गई है। उक्त कार्रवाई के बाद वैध व अवैध रूप से हीरा खनन में लगे लोगों में हड़कंप की स्थिति बन गई है।

DIAMOND
DIAMOND

जानकारी के अनुसार खनिज विभाग को हीरा खदनों में स्वीकृत क्षेत्र से अधिक में खुदाई करने और अवैध रूप से क्रशर मशीन का संचालन होने की शिकायत मिली थी। शिकायत की जांच कराने पर शिकायत सही पाए जाने पर मंगलवार को खनिज विभाग की टीम ने ग्राम पंचायत बडग़ड़ी के ग्राम दमचुआ में छापामार कार्रवाई की है। कार्रवाई के दौरान दो खनिज इंस्पेटर के अलावा पुलिसकर्मी भी मौजूद रहे। कार्रवाई के दौरान अवैध रूप से चल रही दो मोबाइल क्रशर मशीनें जब्त की गईं। इनका संचालक ट्रैक्टरों से किया जा रहा था। दोनों मोबाइल क्रशर जब्त कर लिए गए हैं।

पत्थरों की डस्ट को धुलकर निकालते हैं हीरा

हीरा खदानों में पाए जाने वाले पत्थरों के बीच में बेशकीमती रत्न हीरा पाया जाता है। इसे निकालने के लिए खदान से निकालने वाले पत्थरों को इन मोबाइल मशीनों के माध्यम से बारीक चूर्ण के रूप में पीसा जाता है। इसके बाद इस चूर्ण को पानी में धुलने से इनके बीच में हीरा मिलता है। यही कारण है कि हीरा खदानों में मोबाइल क्रशर मशीनें लगाई गई थीं। इन्हें लगाने के लिए खदान संचालकों द्वारा प्रथक से अनुमति नहीं ली गई थी। इसी कारण से विभाग द्वारा उक्त कार्रवाई की गई है।

बिजली बिल में सात दिन भारी छूट, नहीं तो जनवरी में जुड़ेगा पूरा बिल

मशीनों के उपयोग को लेकर बनता है विवाद

गौरतलब है कि जिले का बृजपुर- पहाड़ीखेड़ा क्षेत्र हीरा धारित पट्टी क्षेत्र है। खनिज विभाग सबसे अधिक हीरा खदानों के पट्टे इसी क्षेत्र में जारी करता है। इकसे साथ ही वन क्षेत्र में सबसे अधिक अवैध हीरा खदानें भी इसी क्षेत्र में चलती हैं। हीरा खदानों में जेसीबी, पोकलेंड मशीनें और मोबाइल क्रशर सहित अन्य मशीनों के उपयोग को लेकर हमेशा से विवादित स्थितियां बनती हैं। पूर्व में भी खादनों में चल रहीं जेसीबी को पकडऩे पर विवाद की स्थिति बनी थी तब तत्कालीन कैबिनेट मंत्री कुसुम महदेले ने हीरा खदानों में भी मशीनों के उपयोग की अनुमति दिलाने की बात की थी।

मध्य भारत के सबसे बड़े इंडस्ट्रीयल एक्सपो में आएंगी 200 नामी कंपनियां

हीरा खदानों की भी हुई पानजोख
कार्रवाई के दौरान पाया गया कि खदान संचालकों को खनन कार्य के लिए दी गई अनुमाति आठ बाई आठ मीटर से अधिक मनमानी तरीके से खदान को खोदा गया है। इसे देखते हुए हीरा व खनिज विभाग के अधिकारियों ने हीरा खदानों की नापजोख भी की है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तभारत ने ओडिशा तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक किया परीक्षणNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारUP Assembly Elections 2022 : निर्भया केस की वकील सीमा समृद्धि कुशवाहा बसपा में हुईं शामिल, मायावती को सीएम बनाने का लिया संकल्पBJP से टिकट कटते ही पर्रिकर के बेटे को केजरीवाल का न्यौता, कहा- पार्टी में आपका स्वागत हैUttarakhand Election 2022: बीजेपी ने जारी की लिस्ट, त्रिवेंद्र रावत का नाम नहीं, हरक के करीबी को मौका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.