scriptuttarakhand bus accident pilgrims bodies reach villages scream around | उत्तराखंड बस हादसा : जैसे ही गांव पहुंचे तीर्थ यात्रियों के शव चारों और मच गई चीख पुकार | Patrika News

उत्तराखंड बस हादसा : जैसे ही गांव पहुंचे तीर्थ यात्रियों के शव चारों और मच गई चीख पुकार

जैसे ही तीर्थ यात्रियों के शव उनके गांव पहुंचे तो गांव में शव वाहन के प्रवेश करते ही वहां चीख पुकार मच गई। चारों ओर का माहौल गमगीन हो गया।

पन्ना

Published: June 07, 2022 11:58:38 am

पन्ना. रविवार शाम को उत्तराखंड के उत्तरकाशी में चार धाम यात्रा पर निकले तीर्थ यात्रियों से भरी बस खाई में गिरने से 26 मौतों के बाद सोमवार शाम 6.55 बजे भारतीय वायुसेना के विशेष विमान से सभी पार्थिव शरीर खजुराहो एयरपोर्ट पहुंचाए गए। यहां से जिला प्रशासन ने 18 एंबुलेंस के जरिए सभी शवों उनके गृहग्राम पहुंचाया। जैसे ही तीर्थ यात्रियों के शव उनके गांव पहुंचे तो गांव में शव वाहन के प्रवेश करते ही वहां चीख पुकार मच गई। चारों ओर का माहौल गमगीन हो गया। यहां सिर्फ अपने के जाने के दर्द में स्वजन ही नहीं बिलख रहे थे, बल्कि पूरा गांव हादसे में जाने वालों का गम मना रहा था। फिलहाल, अबतक सभी मृतकों का अंतिम संस्कार किया जा चुका है।

News
उत्तराखंड बस हादसा : जैसे ही गांव पहुंचे तीर्थ यात्रियों के शव चारों और मच गई चीख पुकार


मेरे मम्मी-पापा को बुला दो, प्लीज :इस दौरान आइजी सागर रेंज अनुराग और संभागायुक्त मुकेश शुक्ला शौकाकुल परिवारों से मिलने पवई विकासखंड के अंतर्गत बुद्ध सिंह साटा गांव पहुंचे। संभागायुक्त जब पीड़ित परिवार को सांत्वना दे रहे थे, तभी माता-पिता को खो चुकी एक महिला जोर-जोर से रोते हुए उनके पास पहुंची, जिसने बिलखती हुई आवाज में कहा कहा कि, आप किसी तरह मेरे माता-पिता को ला दो... प्लीज। महिला के शब्दों से निकले दर्द का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि, इसके बाद वहां मौजूद हर एक शख्स फूट-फूटकर रोने लगा। इस पर कमिश्नर और आइजी ने ढांढस बंधाते हुए उन सभी लोगों की तकलीफ बांटने का प्रयास किया।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड बस हादसा : वायुसेना के विमान से खजुराहो पहुंचे तीर्थयात्रियों के पार्थिव शरीर, पसरा मातम


बुद्ध सिंह साटा गांव में एक साथ उठीं 8 अर्थियां, पूरा गांव था शव यात्रा में शामिल

आपको बता दें कि, बस हादसे में जान गवाने वाले 26 तीर्थ यात्रियों में से 25 सिर्फ पन्ना जिले के ही हैं। इनमें भी सबसे ज्यादा मृतक बुद्ध सिंह साटा गांव के हैं। इस गांव के 8 लोगों ने अपनी जान गवाई है। मंगलवार को जब गांव में एक साथ अर्थियां उठीं तो पूरा गांव उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुआ। इसके अलावा मोहेंद्रा गांव से 6 और पवई क्षेत्र से 4 तीर्थ यात्रियों की मौत हुई है। सिमरिया, कोनी और पंडवन से 2-2 तीर्थ यात्रियों के साथ करहटा से 1 तीर्थ यात्री की जान गई है।


विलाप, सिसकियां और मातम

पन्ना जिले के गांव बुद्ध सिंह साटा, सिमरिया, पंडवन, मोहेंद्रा, पवई, कुंवरपुर, कोनी, ककरहटा व चिखला और छतरपुर जिले के गांव बिजावर में जब देर रात मृतकों के शव पहुंचे तो दिनभर से किसी तरह आंसुओं पर काबू रखे स्वजन बिलख पड़े। हर ओर विलाप और सिसकियां वहां मौजूद हर व्यक्ति की आंखें नम कर रही थीं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra: महाराष्ट्र से बड़ी खबर, देवेंद्र फडणवीस आज शाम 7 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस के निवास पहुंचे एकनाथ शिंदेMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनMaharashtra Politics: बीजेपी और शिंदे गुट के बीच नहीं आएगी शिवसेना, लेकिन निभाएगी विरोधी की भूमिका, जानें संजय राउत ने क्या कहा?Kangana Ranaut ने Uddhav Thackeray पर कसा तंज, कहा- 'हनुमान चालीसा बैन किया था, इन्हें तो शिव भी नहीं बचा पाएंगे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.