फडणवीस कैबिनेट का हुआ विस्तार, मंत्रिमंडल में 13 मंत्रियों ने ली शपथ

फडणवीस कैबिनेट का हुआ विस्तार, मंत्रिमंडल में 13 मंत्रियों ने ली शपथ

Dhiraj Kumar Sharma | Publish: Jun, 16 2019 01:26:53 PM (IST) | Updated: Jun, 16 2019 01:28:33 PM (IST) राजनीति

  • महाराष्ट्र सरकार में हुआ कैबिनेट विस्तार
  • 13 मंत्रियों ने ली शपथ, काम के लिए मिला 90 दिन का वक्त
  • राधाकृष्ण विखे पाटिल के नाम पर रही चर्चा

मुंबई। महाराष्ट्र में विधानसभा के मानसून सत्र से पहले फडणवीस सरकार में कैबिनेट का विस्तार हो गया है। रविवार को 13 नए मंत्रियों ने शपथ ली। इनमें 8 कैबिनेट और 5 राज्य मंत्री शामिल किए गए हैं। कैबिनेट में शामिल नए नामों में सबसे चर्चित नाम भाजपा के राधाकृष्ण विखे पाटिल का रहा।

दिलचस्प बात यह है कि विखे पाटिल पहले कांग्रेस के साथ थे। थोड़े समय पहले ही उन्होंने भाजपा का दामन थामा था। ऐसे में उनके नाम को लेकर काफी चर्चा रही।


देवेंद्र फडणवीस सरकार के कैबिनेट में शामिल होने वाले नेताओं में शिवसेना के जयदत्त क्षीरसागर भी सुर्खियों में रहे। दरअसल इस बार कैबिनेट में शामिल होने वाले नेताओं में ऐसे चेहरों पर फोकस था जो दूसरी पार्टियां छोड़कर पार्टी से जुड़े हों।

ये भी पढ़ेंः मौसमः दिल्ली-एनसीआर में सुहावना हुआ मौसम, हल्की बारिश के साथ चलने लगी ठंडी हवाएं

शपथ पथ लेने वालों में मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष आशीष शेलार शामिल रहे। इनके साथ-साथ ही, डॉ. अनिल बोंडे, संजय कुटे, सुरेश खाड़े, योगेश सागर, अतुल साल्वे, परिणय फुके, बाला भेगड़े, तानाजी सावंत, अशोक उईके और अविनाश माहेकर को कैबिनेट में जगह दी गई है।


रविवार सुबह 11 बजे से शपथ ग्रहण समारोह शुरू हुआ। इसमें खुद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस मौजूद रहे। शिवसेना से जिन दो नेताओं को कैबिनेट में शामिल किया गया उनमें एक जय दत्त क्षीरसगार थे जबकि दूसरे तानाजी सावंत को जगह दी गई है।

 

देवेंद्र फडणवीस

सनी देओल चुनाव जीतने के 20 दिन बाद पहुंचे गुरदासपुर, जनता और मीडिया से बनाई दूरी

इन दोनों पार्टी के अलावा आरपीआई के वरिष्ठ नेता अविनाश महालेकर ने भी मंत्री पद की शपथ ली। महाराष्ट्र सरकार के मंत्रिमंडल में शामिल नए चेहरों पर मोहर बीजेपी आलाकमान से चर्चा के बाद लगी है।


कैबिनेट में चुने गए सभी मंत्रियों को 90 दिन वाला मंत्री भी कहा जा रहा है। ऐसा इसलिए कि इन सभी मंत्रियों के पास अब ज्यादा समय नहीं है। महाराष्ट्र में जल्द ही विधानसभा के चुनाव होने हैं।

ऐसे में कैबिनेट के नए सदस्यों के पास अपने कार्यकाल को लेकर बहुत ज्यादा वक्त नहीं बचा है। इसी समय में उन्हें अपने कामकाज के अपनी उपयोगिता को साबित करने की चुनौती रहेगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned