जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर संसद में अमित शाह की उच्चस्तरीय बैठक खत्म, अजीत डोभाल और गृह सचिव रहे मौजूद

जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर संसद में अमित शाह की उच्चस्तरीय बैठक खत्म, अजीत डोभाल और गृह सचिव रहे मौजूद

Dhiraj Kumar Sharma | Publish: Aug, 04 2019 01:02:00 PM (IST) | Updated: Aug, 04 2019 05:44:21 PM (IST) राजनीति

  • जम्मू-कश्मीर पर सख्त Home Minister Amit Shah
  • NSA Ajit doval और गृह सचिव के साथ की बैठक
  • घाटी के हालात को लेकर की गई अहम चर्चा

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmir ) में लगातार तीसरे दिन भी तनाव की स्थिति बनी हुई है। सियासी हलचल और सेना के दखल के चलते चिंता बढ़ी हुई है। ऐसे में जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर संसद भवन में गृह विभाग की अहम बैठक हुई। बैठक में गृह सचिव और NSA अजीत डोभाल ( NSA Ajit Doval ) भी मौजूद रहे।

गृह मंत्री अमित शाह ( Home Minister Amit Shah ) ने संसद में जम्मू-कश्मीर के मौजूदा हालात पर उच्चस्तरीय बैठक की।

आपको बता दें कि सुरक्षाबलों ने रविवार को घाटी में आतंकियों के घुसपैठ का अलर्ट सुरक्षा एजेंसियों से साझा किया है।

शुरुआती जानकारी में ये बात पता चली है कि चार आतंकियों ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की है।

कश्मीर में तीन दिन के दौरे पर जाएंगे अमित शाह, पार्टी कार्यक्रमों में लेंगे हिस्सा

जम्मू-कश्मीर में हालात तीसरे दिन में सामान्य के साथ तनावपूर्ण बने हुए हैं। लगातार आतंकियों की घुसपैठ की खबर ने केंद्र सरकार को भी सकते में डाल दिया है।

यही वजह है कि जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेने के लिए गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक संसद में की।

इस बैठक में गृह सचिव राजीव गाबा और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने भी हिस्सा लिया।

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी BAT (बॉर्डर एक्शन टीम) की घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम कर दिया था।

आतंकियों के साथ मुठभेड़ में भारतीय सेना ने 5 से 7 पाकिस्तानी सेना के कमांडो और आतंकियों को मार गिराया।

amit

जम्मू-कश्मीर: भारतीय सेना ने पाकिस्तान को भेजा घुसपैठियों के शव ले जाने का प्रस्ताव

कश्मीर में 35 हजार अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती के बीच हर किसी के जुबान पर एक ही सवाल है कि आखिर घाटी में होने क्या जा रहा है। हालांकि इसका जवाब किसी के पास नहीं है।

आपको बता दें कि कल संसद के सत्र में इस मुद्दे को लेकर भी चर्चा हो सकती है। विपक्ष की पार्टियां लगातार सरकार से इस मुद्दे पर सवाल कर रही हैं, लेकिन अब तक संतोषजनक जवाब उन्हें नहीं मिला है।

शायद यही वजह है कि गृह विभाग लगातार इस मामले पर नजर बनाए हुए है।

इस बीच जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शनिवार को कहा कि वे कल के बारे में कुछ नहीं कह सकते लेकिन आज चिंतित होने की जरूरत नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned